Q
Which state goes to assembly elections 2018 next?
Elections.in WhatsappJoin Us on Whatsapp
News at a Glance

भारत के मुख्य निर्वाचन अधिकारी



Track your constituency

मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ)

मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ), भारत के निर्वाचन आयोग के पर्यवेक्षण, नियंत्रण और समग्र मार्गदर्शन के तहत कार्य करता है। पीपुल्स एक्ट 1950 और 1951 के प्रतिनिधित्व के अनुसार, पीपुल्स एक्ट 1950 और 1951 के प्रतिनिधित्व के अनुसार, भारत के प्रत्येक राज्य के मुख्य निर्वाचन को राज्य विधानसभा चुनावों के साथ-साथ आम चुनाव के दौरान भी सहायता करनी चाहिए। उपरोक्त कृत्यों के प्रावधानों के मुताबिक, भारत के राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के चुनाव के दौरान भी सीईओ की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। मुख्य निर्वाचन अधिकारी द्वारा राज्य में निर्वाचन नियमावली की तैयारी संशोधन और रखरखाव का कार्य किया जाता है। मुख्य निर्वाचन अधिकारी का कर्तव्य राज्य में स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव सुनिश्चित कराना है जिससे अधिक संख्या में मतदान हो सके। किसी राज्य के मतदाताओं और राज्य के विभिन्न विभागों के बीच संचार बढ़ाने की जिम्मेदारी मुख्य निर्वाचन अधिकारी की है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि सीईओ यह सुनिश्चित करता है, राज्य में हो रहे चुनावों में किसी भी राजनीतिक दल का कोई प्रभाव (दबाव) तो नहीं है।

प्रत्येक राज्य में मुख्य निर्वाचन अधिकारी की आवश्यकता

चुनाव में अधिकतम पारदर्शिता बनाए रखने के लिए प्रत्येक राज्य में मुख्य निर्वाचन अधिकारी की आवश्यकता होती है। मुख्य निर्वाचन अधिकारी का कार्य राज्य में चुनाव की प्रक्रिया और सामग्री की देखरेख करना है। प्रत्येक राज्य में चुनाव विभाग में सीईओ, एक अभिन्न अंग होता है जिसका प्रमुख कार्य पूरी तरह से सत्यापन सुनिश्चित वैध मतदाताओं की फोटो पहचान पत्र जारी करना और मतदाता सूची के मामले में राज्य में बेहतर सुविधाएं और ईपीआईसी कार्ड की जांच सुधार और चुनावी नियमावली की सूची (वर्तनी या जन्मतिथि आदि में गलतियों), मतदान केंद्र और उनसे संबंधित दूरी को इंगित करने के लिए आधुनिक मानचित्र और चुनाव के दिन पर्याप्त भौतिक संसाधन प्रदान करना तथा आदर्श आचार संहिता को सभी मतदाताओं द्वारा अपनाया जाना है। चुनाव के दौरान सीईओ का कार्य वित्तीय प्रबंधन भी देखना है। मुख्य रूप से मतदान दिवस के दौरान कानून और व्यवस्था का रखरखाव मुख्य निर्वाचन अधिकारी पर ही निर्भर होता है।

मुख्य निर्वाचन अधिकारी जिला निर्वाचन अधिकारी का भी अधीक्षक होता हैं। दूसरे शब्दों में, मतदाताओं की क्षमता का निर्माण करके संबंधित राज्य में मतदाताओं के अधिकारों और कर्तव्यों के बारे में अधिकतम जागरूकता पैदा करने के लिए हर राज्य में मुख्य निर्वाचन अधिकारी की आवश्यकता होती है।


सीईओ बनने के लिए योग्यता

सीईओ बनने के लिए निम्नलिखित योग्यताए होनी चाहिए:
  • भारत का नागरिक हो।
  • किसी भी लाभप्रद पद पर नहीं होना चाहिए।
  • किसी भी भारतीय प्रशासनिक सेवा अधिकारी में कार्यरत होना चाहिए।
  • सीईओ के रूप में वह अपने कार्यकाल की अवधि में किसी भी राजनीतिक दल का सदस्य नहीं होना चाहिए और न ही उसे किसी भी राजनीतिक दल से कोई संबद्धता रखनी चाहिए।
  • उसे वित्तीय संस्थानों, बैंकिंग संस्थानों या कानून के न्यायालयों का कर्मचारी नहीं होना चाहिए।


एक मुख्य निर्वाचन अधिकारी का वेतनमान

किसी भी राज्य के मुख्य निर्वाचन अधिकारी का वर्तमान वेतन 18,500 रुपये से 23,500 रुपये है।

मुख्य निर्वाचन अधिकारी
सीईओ अरुणाचल प्रदेशसीईओ हिमाचल प्रदेशसीईओ मेघालयसीईओ सिक्किम
सीईओ असमसीईओ जम्मू-कश्मीरसीईओ मिजोरमसीईओ तमिलनाडु
सीईओ बिहारसीईओ झारखंडसीईओ आंध्र प्रदेशसीईओ तेलंगाना
सीईओ छत्तीसगढ़सीईओ कर्नाटकसीईओ उड़ीसासीईओ त्रिपुरा
सीईओ दिल्लीसीईओ केरलसीईओ पंजाबसीईओ उत्तराखंड
सीईओ गोवासीईओ मध्य प्रदेशसीईओ पांडिचेरीसीईओ उत्तर प्रदेश
सीईओ गुजरातसीईओ महाराष्ट्रसीईओ राजस्थानसीईओ पश्चिम बंगाल


भारत में राज्यवार चुनाव
आंध्र प्रदेशहरियाणामणिपुरराजस्थान
अरुणाचल प्रदेशहिमाचल प्रदेशमेघालयसिक्किम
असमजम्मू-कश्मीरमिजोरमतमिलनाडु
बिहारझारखंडनगालैंडत्रिपुरा
छत्तीसगढ़कर्नाटकओडिशाउत्तराखंड
दिल्लीकेरलपंजाबउत्तर प्रदेश
गोवामध्य प्रदेशपांडिचेरीपश्चिम बंगाल
Last Updated on September 25, 2018