Track your constituency


दतिया निर्वाचन क्षेत्र


[an error occurred while processing this directive]

[an error occurred while processing this directive]


निर्वाचन क्षेत्र – दतिया

मध्यप्रदेश में दतिया विधानसभा सीट एक महत्वपूर्ण विधानसभा सीट है। दतिया विधान सभा भिंड लोकसभा सीट का हिस्सा है। कांग्रेस का गढ़ रही दतिया विधानसभा सीट पर फिलहाल भाजपा का कब्जा है नरोत्तम मिश्रा यहां के विधायक हैं। भाजपा ने लगातार दूसरी बार इस सीट पर जीत हासिल की है। 2013 में ऐसा पहली बार हुआ था कि दतिया जिले की तीनों विधानसभा सीटों पर भाजपा ने अपना कब्जा जमाया। 2013 में भाजपा के डॉ.नरोत्तम मिश्रा ने कांग्रेस के राजेंद्र भारती को हराया था। भाजपा उम्मीदवार मिश्रा को जहां 57438 वोट मिले थे, तो वहीं कांग्रेस के भारती को 45357 वोट मिले थे। डॉ.नरोत्तम मिश्रा शिवराज सरकार में जनसंपर्क मंत्री हैं। 2008 के चुनाव में इस सीट पर भाजपा के नरोत्तम मिश्रा ने 34489 वोटों के साथ जीत हासिल की थी और राजेंद्र भारती को 23256 वोट मिले थे। यहां इस सीट पर फर्जी वोटों का मामला सामने आया था, कांग्रेस ने आरोप लगया था कि दतिया में 500 फर्जी वोटर हैं। मामले की जांच के बाद दतिया शहर से दो मकानों के पते से ही 500 से ज्यादा ‘फर्जी’ वोटर पाए गए थे। वहीं बसपा नेताओं का तर्क है कि 2013 के चुनाव में भाजपा की लोकप्रियता का ग्राफ चरम पर था, लेकिन अब वह बात नहीं रही।

सीट का चुनावी महत्व

मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा के विरुद्ध पेड न्यूज मामले में भारत निर्वाचन आयोग ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका लगाई है। सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद दतिया विधानसभा का राजनीतिक घमासान तय होगा। मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा के राजनीतिक करियर पर सुप्रीम कोर्ट से निर्णय आने तक तलवार लटक रही है। यदि फैसला पक्ष में नहीं आया तो मंत्री डॉ. मिश्रा अपने बेटे सुकर्ण मिश्रा को चुनाव मैदान में उतार सकते हैं। ऐसे में कांग्रेस की एकजुटता व भाजपा का असंतुष्ट खेमा मिलकर बाजी पलट सकता है। यहां से प्रतिष्ठित सराफा व्यवसायी राधेश्याम अग्रवाल को कांग्रेस से मैदान में उतारने की भी चर्चाएं हैं।

सीट के मुद्दे

विधानसभा क्षेत्र में उद्योग न होने के कारण बेरोजगारी बढ़ी है। मिनी वृंदावन के नाम प्रसिद्ध दतिया में पर्यटन स्थलों का विकास नहीं हुआ। निर्माण कार्यों में गुणवत्ता की अनदेखी से भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिला। जिला अस्पताल सहित अन्य अस्पतालों में चिकित्सकों व अन्य मेडिकल स्टाफ की कमी है।

2018 में संभावित प्रत्याशी
भाजपा- विधायक प्रदीप अग्रवाल, जिपं सदस्य आलोकसिंह परिहार, सुनील महते
कांग्रेस- घनश्यामसिंह, राजेश दांतरे व दामोदरसिंह

Last Updated on October 31, 2018