Track your constituency


छत्तीसगढ़ विधान सभा 2018-बीजापुर निर्वाचन क्षेत्र


[an error occurred while processing this directive]

[an error occurred while processing this directive]


बीजापुर निर्वाचन क्षेत्र

दक्षिणी छत्तीसगढ़ का जिला बीजापुर नक्सल प्रभावित इलाका है। यहां नक्सली जब चाहे किसी भी बड़ी घटना को अंजाम दे सकते हैं। ऐसे इलाके में विकास गांव-गांव तक पहुँचाना सरकार के लिए बड़ी चुनौती है। लेकिन इस चुनौती के बीच बीजापुर पहले से कहीं ज्यादा अब बदला है। नक्सल घटनाओं के बीच यहां विकास हुआ है। यही वजह है कि देश की सबसे बड़ी स्वास्थ्य योजना आयुष्मान भारत की शुरुआत पीएम नरेन्द्र मोदी ने बीजापुर के जांगला गांव से की है। जांगला नक्लप्रभावित इलाके का एक मॉडल गांव है। जहां

सुविधायुक्त स्वास्थ्य केन्द्र के साथ, बैंक, एटीएम, बीपीओ सेंटर भी है। इसी तरह से बीजापुर में कौशल विकास के जरिए बेहतर काम हुआ है। लेकिन विकास के बीच भी ढेर सारे मुद्दे है ऐसे भी जिसे मौजूदा चुनाव में विपक्ष की ओर से जोर-शो से उठाया जा रहा है। पिछले दो चुनावों से इस सीट पर भारतीय जनता पार्टी जीत दर्ज करती हुई आई है। भाजपा की नजर इस सीट पर जीत की हैट्रिक लगाने से है।

2013 विधानसभा चुनाव में सीट पर भाजपा के महेश गगड़ा ने 29578 प्राप्त किए थे और जीत हासिल की थी। वहीं कांग्रेस के विक्रम मांडवी को 20091 वोट ही प्राप्त हुए। 2008 के विधानसभा चुनाव में भी भाजपा के महेश गगड़ा ने चुनाव जीता था और 20049 वोट प्राप्त किए थे। तो इस बार कांग्रेस की तरफ से चुनाव लड़ रहे राजेंद्र पामभोई 9528 वोट प्राप्त हुए थे। 2003 के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस ने बाजी मारी थी। कांग्रेस के राजेंद्र पामभोई को 15917 वोट प्राप्त हुए थे और भाजपा के राजाराम तोडम को 13196 वोट ही प्राप्त हो सके थे।

बीजापुर जिला तेलंगाना से सटा हुआ इलाका है। यह पहले दंतेवाड़ा जिले का हिस्सा था। इसके चार ब्लॉक डिवीजन बीजापुर, भैरमगढ़, भोपालपट्टनम और उसूर हैं।।

चुनावी मुद्दे

नक्सली समस्या बीजापुर का एक गंभीर मुद्दा रहा है। आए दिन होने वाले नक्सली हमले से बीजापुर की जनता परेशान है। यहां के युवाओं की शिकायत है कि रोजगार के साधनों की यहां उपलब्धता कम है। युवा चाहते हैं कि यहां आउट सोर्सिंग बंद की जाए और स्थानीय लोगों को मौका दिया जाए। बफर जोन में जंगलों की हुई कटाई को लेकर स्थानीय निवासियों में रोष है। क्योंकि महेश गागड़ा प्रदेश के वनमंत्री है और उनके वनमंत्री रहते हुए ही जंगलों की अंधाधुन कटाई की गई।

बीजेपी और कांग्रेस उमीदवारो की सूचि यहाँ देखे
अंतिम बार 2 नवंबर, 2018 को अपडेट किया गया