Track your constituency


नरेंद्र मोदी जीवनी

मोदी भारत के ऐसे पहले प्रधानमंत्री हैं जिनका जन्म 'स्वतंत्र भारत' यानी 15 अगस्त, 1947 के तुंरत बाद हुआ था। वह भारत के पहले ऐसे प्रधानमंत्री भी हैं जिन्होंने जब प्रधानमंत्री का पद ग्रहण किया तो उनकी माँ जीवित थीं। वह भारी बहुमत (लगभग 5.70 लाख; वडोदरा) द्वारा लोकसभा सीट जीतने का रिकॉर्ड रखते हैं।

Narendra Modi

नरेंद्र दामोदरदास मोदी

जन्म तिथि17 सितंबर, 1950
जन्म स्थानवडनगर, मेहसाणा, गुजरात
धर्महिन्दू
शिक्षागुजरात विश्वविद्यालय (1983), दिल्ली विश्वविद्यालय (1978),मुक्त शिक्षा विद्यालय.
पत्नी का नामश्रीमती जशोदाबेन
माता का नामश्रीमती हेराबेन
पिता का नामश्री दमोदरदास मूलचंद मोदी
भाई बहनसोमा मोदी, पंकज मोदी, प्रहलाद मोदी, वसंतबेन हस्मुखलाल मोदी
भारत के प्रधान मंत्री26 मई, 2014 से
पोर्टफोलियो गुजरात के 16वें प्रधान मंत्री, वाराणसी के 14वें मुख्यमंत्री लोकसभा के सदस्य, मणिनगर के सदस्य गुजरात विधान सभा के सदस्य
राजनीतिक दलभारतीय जनता पार्टी
अल्मा मेटर
  • दिल्ली विश्वविद्यालय
  • गुजरात विश्वविद्यालय
वेबसाइटwww.narendramodi.in, www.pmindia.gov.in/en/

नरेंद्र दामोदरदास मोदी के बारे में

भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हैं। वह लोकसभा में वाराणसी निर्वाचन क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। वह भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के सबसे प्रमुख नेता हैं। उन्हें अपनी पार्टी के लिए एक विशेष रणनीतिकार माना जाता है। वह लगातार चार बार गुजरात के मुख्यमंत्री रहे हैं।

नरेंद्र मोदी का परिवार और व्यक्तिगत पृष्ठभूमि

नरेंद्र दामोदरदास मोदी गुजरात के मेहसाणा जिले के वड़नगर नामक एक कस्बे में बनिया परिवार में पैदा हुए। उनका जन्म 17 सितंबर 1950 को दमोदरदास मूलचंद मोदी और हेराबेन मोदी के यहाँ हुआ था। जिनके छ: बच्चों में नरेंद्र मोदी सबसे बड़े थे।

मोदी ने सभी बाधाओं के बावजूद भी अपनी पढ़ाई पूरी की। उनकी संघर्ष की दुखद गाथा तब शुरू हुई जब एक किशोर के रूप में, वह अपने भाई के साथ अहमदाबाद में एक रेलवे स्टेशन के पास एक चाय स्टॉल लगाया करते थे। उन्होंने वडनगर से अपनी स्कूली शिक्षा प्राप्त की और गुजरात विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान में मास्टर की डिग्री प्राप्त की। उनके स्कूल के शिक्षकों में से एक ने उन्हें एक साधारण छात्र के रूप में वर्णित किया लेकिन वह एक प्रतिभाशाली बालक थे। उन्होंने अपने कॉलेज के दिनों के दौरान, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के 'प्रचारक' (प्रमोटर) के रूप में काम किया। उन्होंने 17 वर्ष की उम्र में घर छोड़ दिया और अगले दो वर्षों तक देश भर में यात्रा की।

बाद के चरण में, 1990 के दशक के दौरान, जब मोदी ने नई दिल्ली में भाजपा के आधिकारिक प्रवक्ता के रूप में कार्य किया, तो उन्होंने सार्वजनिक संबंधों और छवि प्रबंधन पर अमेरिका में तीन महीने का लंबा कोर्स पूरा किया।

उनके भाइयों में से एक सोमाभाई एक सेवानिवृत्त स्वास्थ्य अधिकारी हैं जो इस समय अहमदाबाद शहर में वृद्धाश्राम चलाते हैं। उनके एक अन्य भाई प्रहलाद, अहमदाबाद में उचित मूल्यों वाली दुकानों में सक्रियता साझेदारी के साथ स्वयं की भी उचित कीमत वाली दुकान है।उनके तीसरे भाई पंकज गांधीनगर में सूचना विभाग में कार्यरत हैं।

नरेंद्र मोदी का राजनीतिक करियर

नरेंद्र मोदी में हमेशा से लोगों की सेवा औरमदद करने का उत्साह था।युवा लड़के के रूप में, नरेंद्र मोदी ने 1965 में भारत-पाक युद्ध के दौरान रेलवे स्टेशनों पर स्वेच्छा से सैनिकों को अपनी सेवाएं प्रदान कीं। उन्होंने 1967 में गुजरात बाढ़ के दौरान प्रभावित लोगों को सेवा प्रदान की। मोदी ने गुजरात राज्य सड़क परिवहन निगम के कर्मचारी कैंटीन में काम करना शुरू कर दिया। आखिरकार वहाँ से वह एक पूर्णकालिक समर्थक और प्रचारक बन गए, जिसे आम तौर पर आरएसएस का 'प्रचारक' कहा जाता है। मोदी ने बाद में नागपुर में आरएसएस शिविर में प्रशिक्षण लिया।आरएसएस का सदस्य बनाने का आधार यह है कि संघ परिवार में कोई आधिकारिक पद धारण किये हो तो ही प्रशिक्षण पाठ्यक्रम में भाग ले सकता है।नरेंद्र मोदी को छात्र विंग का प्रभार दिया गया था, जिसे अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) के रूप में जाना जाता है। आपातकालीन आंदोलन में उनके योगदान ने वरिष्ठ राजनीतिक नेताओं को प्रभावित किया। इसके परिणामस्वरूप, अंततः उन्हें गुजरात में नवनिर्मित भारतीय जनता पार्टी का क्षेत्रीय आयोजक नियुक्त किया गया।

नरेंद्र मोदी बहुत ही कम आयु से ही एक कुशल आयोजक थे।आपातकाल के दौरान, उन्होंने आरएसएस पुस्तिकाओं की गुप्त परिसंचरण की व्यवस्था की और आपातकालीन शासन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन भी किया। अपने आरएसएस के दिनों के दौरान, उन्होंने दो जनसंघ के नेताओं, वसंत गजेंद्रगडकर और नाथलाल जाघदा से मुलाकात की, जिन्होंने बाद में गुजरात में भाजपा के राज्य संघ की स्थापना की। 1987 में, आरएसएस ने भाजपा में अपनी उम्मीदवारी की सिफारिश करके नरेंद्र मोदी को राजनीति में नियुक्त किया। मोदी की दक्षता को पहचाना गया और मुरली मनोहर जोशी के लिए एकता यात्रा के प्रबंधन के बाद वह प्रमुखता में पहुँचे।

Inside the page
Narendra Modi Elections Result Blogs about Narendra Modi
Books on Narendra Modi Books written by Narendra Modi
Narendra Modi's International Tours 100 days of Modi Government
You may also like to read
Know about Atal Bihari Vajpayee
Biography of Lal Krishna Advani
Political Journey of Murli Manohar joshi

नरेंद्र मोदी की राजनीतिक यात्रा

  • 1988 में बीजेपी की गुजरात संघ के महासचिव बने।
  • 1995 और 1998 के गुजरात विधानसभा चुनावों में पार्टी के लिए सफलतापूर्वक प्रचार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए एक प्रमुख रणनीतिकार के रूप में पहचाने गए, जिन्होंने भाजपा को गुजरात में सत्ताधारी पार्टी बना दी।
  • राष्ट्रीय स्तर पर सफलतापूर्वक दो चुनौतीपूर्ण कार्यक्रम आयोजित किए: एक सोमनाथ से अयोध्या रथ यात्रा, जो एल. के.आडवाणी द्वारा एक लंबा अभियान था तथा दूसरा मुरली मनोहर जोशी द्वारा किए गए कन्याकुमारी (भारत का दक्षिणी छोर) से कश्मीर (उत्तरी छोर) तक अभियान था। माना जाता है कि इन दोनों कार्यक्रमों ने 1998 में भाजपा को सत्ता में लाने में योगदान दिया था।
  • 1995 में, नरेंद्र मोदी को भाजपा की राष्ट्रीय संघ के सचिव के रूप में नियुक्त किया गया था।
  • नरेंद्र मोदी को विभिन्न राज्यों में पार्टी संगठन सुधारने की जिम्मेदारी को
  • 1998 में, नरेंद्र मोदी को महासचिव के रूप में पदोन्नत किया गया और उन्होंने अक्टूबर 2001 तक इस पद को संभाला।
  • अक्टूबर 2001 में नरेंद्र मोदी पहली बार गुजरात राज्य के मुख्यमंत्री बने, जब उनके पूर्ववर्ती केशुभाई पटेल ने उपचुनाव में भाजपा की हार के बाद पद से इस्तीफा दे दिया था।
  • लगातार तीन बार गुजरात विधानसभा चुनाव जीतने और राज्य के मुख्यमंत्री का पद ग्रहण करने के बाद, मोदी पहली बार 2014 के लोकसभा चुनावलड़े। उन्होंने भारी बहुमत के साथ चुनाव जीता और जीत के बाद भारत के प्रधानमंत्री बने।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू की गई योजनाएँ

  • प्रधान मंत्री जन धन योजना (वित्तीय समावेशन के लिए)
  • स्वच्छ भारत मिशन (स्वच्छ सार्वजनिक स्थानों और बेहतर स्वच्छता सुविधाओं के लिए)
  • धान मंत्री उज्ज्वल योजना (बीपीएल के तहत रहने वाले परिवारों को एलपीजी का प्रावधान)
  • प्रधान मंत्री कृषि सिंचाई योजना (सिंचाई में दक्षता)
  • प्रधान मंत्री फसल बीमा योजना (फसल के नष्ट होने का बीमा)
  • पहल (एलपीजी सब्सिडी)
  • मुद्रा बैंक योजना (मध्यम और लघु उद्यमों के लिए बैंकिंग सेवाएँ
  • प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना (युवा श्रमिकों को कौशल प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए)
  • संसद आदर्श ग्राम योजना (ग्रामीण बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के लिए)
  • मेक इन इंडिया (विनिर्माण क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए)
  • गरीब कल्याण योजना (गरीबों के कल्याण करने की जरूरतों को संबोधित करने के लिए)
  • ई-बस्ता (ऑनलाइन शिक्षण मंच)
  • सुकन्या समृद्धि योजना (बालिकाओं का वित्तीय सशक्तिकरण)
  • पढ़े भारत बढ़े भारत (बच्चों के पढ़ने, लिखने और गणितीय कौशल को बढ़ाने के लिए)
  • डीडीयू (दीन दयाल उपाध्याय) ग्रामीण कौशल्या योजना ('कौशल भारत' मिशन के हिस्से के रूप में ग्रामीण युवाओं को व्यावसायिक प्रशिक्षण)
  • नयी मंजिल योजना (मदरसा छात्रों को कौशल आधारित प्रशिक्षण)
  • स्टैंड अप इंडिया (महिलाओं और एससी / एसटी समुदायों के लिए समर्थन)
  • अटल पेंशन योजना (असंगठित क्षेत्र के कर्मचारियों के लिए पेंशन योजना)
  • प्रधान मंत्री सुरक्षा बीमा योजना (दुर्घटना के खिलाफ बीमा)
  • जीवन ज्योति बीमा योजना (जीवन बीमा)
  • सागर माला परियोजना (बंदरगाह बुनियादी ढाँचे के विकास के लिए)
  • भारत में स्मार्ट नगर (शहरी आधारभूत संरचना का निर्माण)
  • रुर्बन मिशन (गाँवों में आधुनिक सुविधाएँ)
  • प्रधान मंत्री आवास योजना (सभी के लिए किफायती आवास)
  • जन औषधि योजना (किफायती दवाओं के प्रावधान)
  • डिजिटल इंडिया (डिजिटल रूप से सुसज्जित राष्ट्र और अर्थव्यवस्था के लिए)
  • डिजिलॉकर (ऑनलाइन दस्तावेज़ सुरक्षित)
  • स्कूल नर्सरी योजना (युवा नागरिकों के लिए और उन्हीं के द्वारा वनीकरण कार्यक्रम)
  • स्वर्ण मुद्रीकरण योजना (अर्थव्यवस्था में घरों में निष्क्रिय पड़े सोने के स्टाक शामिल हैं)

नरेंद्र मोदी चुनाव परिणाम

वर्षचुनाव-क्षेत्रराज्यस्थिति
2014वाराणसीउत्तर प्रदेशजीत
2014वाराणसीगुजरातहार

नरेंद्र मोदी का अंतर्राष्ट्रीय दौरा

  • व्यापार, ऊर्जा, रक्षा और समुद्री सहयोग में संबंधों को मजबूत करने के लिए मोजाम्बिक, दक्षिण अफ्रीका, तंजानिया और केन्या को कवर करने वाले चार राष्ट्र अफ्रीकी दौरे (जुलाई2016)।
  • द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ाने के लिए तीन दशकों में मेक्सिको का पहला प्रधानमंत्री दौरा (जून2016)।
  • संबंधों को मजबूत करने और दोनों देशों के बीच सहयोग बढ़ाने के लिए अमेरिका दौरा (जून2016)।
  • दोनों देशों के बीच उद्योग और व्यापार संबंधों को मजबूत करने के लिए कतर में शीर्ष व्यापारिक नेताओं के साथ बैठक (जून2016)।
  • स्विट्जरलैंड के राष्ट्रपति जोहान श्नाइडर अम्मान के साथ द्विपक्षीय बैठक जिन्होंने एनएसजी सदस्यता के लिए भारत का समर्थन किया। भारत और स्विट्जरलैंड के बीच उद्योग और व्यापार संबंधों को मजबूत करने के लिए देश के व्यापारिक नेताओं से भी मुलाकात की (जून2016)।)
  • अफगानिस्तान की यात्रा और संयुक्त रूप से राष्ट्रपति अशरफ गनी के साथ अफगान-भारत मैत्री बांध का उद्घाटन किया (जून2016)।
  • व्यापार, निवेश, ऊर्जा भागीदारी, कनेक्टिविटी, संस्कृति और लोगों के साथ संबंधों को बढ़ाने के लिए ईरान की यात्रा। इस यात्रा के दौरान ऐतिहासिक चाबहार समझौते पर रोक लगा दी गई थी (मई2016)।
  • दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत करने और व्यापार संबंधों को मजबूत बनाने के लिए सऊदी अरब की यात्रा (अप्रैल2016)।
  • 16वें भारत-रूस वार्षिक शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए रूस का दौरा किया। दोनों देशों के बीच 16 महत्वपूर्ण समझौतों पर हस्ताक्षर किए गए थे। (दिसंबर2015)
  • भारत-सिंगापुर संबंधों के पचास वर्षों को चिह्नित करने के लिए सिंगापुर की यात्रा की। प्रधानमंत्री ने कई शीर्ष निवेशकों से मुलाकात की और उन्हें 'मेक इन इंडिया' में आमंत्रित किया। (नवंबर2015)
  • आसियान (दक्षिण पूर्वी एशियाई राष्ट्रों का संगठन)-भारत शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए मलेशिया का दौरा किया। प्रधानमंत्री मोदी ने अपने मलेशियाई समकक्ष नाजिब रजाक से उनके साथ द्विपक्षीय संबंधों पर चर्चा करने के लिए मुलाकात की। उन्होंने शिखर सम्मेलन के दौरान अपने चीनी और जापानी समकक्ष ली केचियांग और शिंजो अबे से भी मुलाकात की। (नवंबर, 2015)
  • दोनों देशों के बीच व्यापार और सांस्कृतिक संबंधों को मजबूत करने के लिए, एक दशक में पहलीबार ब्रिटेन में ऐतिहासिक यात्रा। ब्रिटेन के प्रधान मंत्री डेविड कैमरन ने एक सुधारित यूएनएससी की भारत की स्थायी उम्मीदवारी के लिए समर्थन व्यक्त किया। (नवंबर, 2015)
  • 34 वर्षों में संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) मेंपहली बार प्रधानमंत्री की यात्रा। आर्थिक संबंधों और सुरक्षा सहयोग को मजबूत बनाने के लिए दौरा। (अगस्त, 2015)
  • उज़्बेकिस्तान, कजाख़िस्तान, तुर्कमेनिस्तान, किर्गिजस्तान और ताजिकिस्तान को कवर करते हुए मध्य एशिया की यात्रा। ऐतिहासिक और विशेष यात्रा जिसमें मध्य एशियाई देशों के साथ भारत के संबंध को बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण प्रयास किए गए थे। (जुलाई, 2015)
  • बांग्लादेश की यात्रा में प्रधान मंत्री शेख हसीना के साथ बातचीत और कई एमओयू पर हस्ताक्षर शामिल थे। इस यात्रा के दौरान ऐतिहासिक भूमि सीमा समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे। (जून, 2015)
  • कोरिया गणराज्य की यात्रा ने भारत-कोरिया संबंध के कई पहलुओं को मजबूत किया। (मई, 2015)
  • मंगोलिया की ऐतिहासिक यात्रा ने दोनों देशों के बीच साझेदारी और संबंध के व्यापक मार्ग खोले। (मई, 2015)
  • तीन दिवसीय चीन यात्रा ने भारत और चीन के बीच द्विपक्षीय साझेदारी और आर्थिक सहयोग तथा दुनिया की सबसे पुरानी सभ्यताओं में से दोनों के बीच मित्रता में वृद्धि की (मई, 2015)।
  • दोनों देशों के बीच संबंधों को मजबूत बनाने के लिए चार दशकों से अधिक समय में कनाडा की पहली बार भारतीय प्रधानमंत्री द्वारा द्विपक्षीय यात्रा थी। (अप्रैल, 2015)
  • जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल और प्रमुख व्यावसायिक नेताओं के साथ व्यापक वार्ता करने और भारत सरकार की 'मेक इन इंडिया' पहल को बढ़ावा देने के लिए जर्मनी की यात्रा की। (अप्रैल, 2015)
  • भारत-फ्रांस संबंधों को मजबूत करने के लिए व्यापक चर्चाओं हेतु फ्रांस की यात्रा की। मोदी ने कई फ्रांसीसी नेताओं और व्यापार अधिकारियों से मुलाकात की और आर्थिक सहयोग को मजबूत करने के तरीकों पर चर्चा की। (अप्रैल, 2015)
  • इन मित्रतापूर्ण राष्ट्रों के साथ भारत के संबंधों को मजबूत करने के लिए सेशेल्स, मॉरीशस और श्रीलंका के लिए एक सफल 3-राष्ट्र दौरे का उत्तदायित्व उठाया। (मार्च2015)
  • फोर्टालेजा में ब्रिक्स शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए ब्राजील का दौरा किया। शिखर सम्मेलन के दौरान वैश्विक मुद्दों की एक विस्तृत श्रृंखला पर चर्चा की गई जहाँ एक ब्रिक्स बैंक स्थापित करने का निर्णय लिया गया और बैंक का पहला अध्यक्ष भारत से होना था। ब्राजील और भारत के बीच तीन एमओयू पर हस्ताक्षर किए गए। (दिसंबर2014)
  • 18वें सार्क शिखर सम्मेलन में भाग लेने के लिए नेपाल की यात्रा की। (नवंबर 2014)
  • 33 वर्षों में भारतीय प्रधानमंत्री द्वारा फिजी की पहली द्विपक्षीय यात्रा। मोदी ने 'फोरम फॉर इंडिया-पैसिफिक आईलैंड्स सहयोग' में भाग लिया जहाँ उन्होंने विभिन्न प्रशांत द्वीप राष्ट्रों के नेताओं से वार्तालाप की। (नवंबर2014)
  • 28 वर्षों में एक भारतीय प्रधानमंत्री द्वारा पहली द्विपक्षीय यात्रा की गई। मोदी ने ब्रिस्बेन में जी -20 शिखर सम्मेलन में भाग लिया जिसके बाद ऑस्ट्रेलिया की राजकीय यात्रा की। (नवंबर, 2014)
  • म्यांमार में दो महत्वपूर्ण बहुपक्षीय शिखर सम्मेलन, आसियान और पूर्वी एशिया शिखर सम्मेलन में भाग लिया। (नवंबर, 2014)
  • जापान की एक सफल यात्रा शुरू की जिसके दौरान उन्होंने कई क्षेत्रों में दोनों देशों के बीच संबंधों को मजबूत करने के लिए जापान के शीर्ष नेतृत्व के साथ व्यापक चर्चा की। इस यात्रा के परिणामस्वरूप कई समझौते भी हुए। (अगस्त, 2014)
  • पदभार संभालने के बाद अपनी पहली विदेश यात्रा में भारत- भूटान संबंधोंको मजबूत करने के लिए भूटान की यात्रा की।(जून, 2014)

गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में नरेंद्र मोदी का कार्यकाल

गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में, मोदी ने राज्य को 'वाइब्रेंट गुजरात' के रूप में प्रचारित किया और दावा किया कि राज्य ने बुनियादी ढांचे के विकास और आर्थिक विकास के संदर्भ में तेजी से प्रगति की है। हालांकि, कुछ आलोचकों ने गरीबी, कुपोषण और राज्य में उचित शिक्षा की कमी को भी इंगित किया। आंकड़ों के मुताबिक, सितंबर2013 को राज्य गरीबी के मामले में 14 वें स्थान पर और 2014 में साक्षरता दर के मामले में 18 वें स्थान पर रहा। वहीं दूसरी ओर, राज्य के अधिकारियों का दावा है कि राज्य ने महिलाओं की शिक्षा के मामले में अन्य राज्यों से बेहतर प्रदर्शन किया है। इसके अलावा, विद्यार्थियों के स्कूल छोड़ने की दर और मातृ मृत्यु दर में कमी आई है। गुजरात उन राज्यों में से एक है जो भू-माफिया की समस्या से पीड़ित नहीं है।

राज्य के अधिकारियों द्वारा किए गए दावों के विपरीत, एक राजनीतिक वैज्ञानिक क्रिस्टोफ जाफ्रेलोट,एक राजनीतिक वैज्ञानिक ने कहा कि राज्य में विकास केवल शहरी मध्यम वर्ग तक ही सीमित था। ग्रामीण लोगों और निचली जातियों के लोगों को सरकार द्वारा अनदेखा किया गया। जाफ्रेलोट के अनुसार, मोदी के शासन के तहत गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले लोगों की संख्या में वृद्धि हुई और साथ ही, जनजातीय और दलित समुदायों को अधीनस्थ माना गया। विख्यात अर्थशास्त्री अमर्त्य सेन सहित कई अन्य आलोचकों का भी ऐसा ही मानना है।

पहला कार्यकाल (2001 से 2002)
  • 7 अक्टूबर 2001 को, नरेंद्र मोदी, गुजरात राज्य के मुख्यमंत्री नियुक्त किए गए थे।
  • दिसंबर 2002 के चुनावों के लिए उन्हें पार्टी तैयार करने की जिम्मेदारी दी गई थी।
  • मुख्यमंत्री के रूप में, मोदी ने छोटे सरकारी संस्थानों के निजीकरण पर बल दिया।
  • गुजरात हिंसा: 27 फरवरी को सांप्रदायिक हिंसा की एक बड़ी घटना देखने को मिली, जिसके परिणामस्वरूप 58 लोगों की हत्या हुई, जब सैकड़ों यात्रियों को ले जाने वाली ट्रेन, जिसमें ज्यादातर तीर्थयात्री हिंदू थे, को गोधरा के पास आग लगा दी गई। इस घटना के परिणामस्वरूप मुस्लिम विरोधी हिंसा हुई, जिसने कुछ ही समय के भीतर लगभग पूरे गुजरात को अपनी गिरफ्त में ले लिया। अनुमान के अनुसार मरने वालों की संख्या 900 और 2,000 के बीच रही। नरेंद्र मोदी की अगुआई वाली गुजरात सरकार ने हिंसा में वृद्धि को रोकने के लिए राज्य के कई शहरों में कर्फ्यू लगाया। मानवाधिकार संगठनों, मीडिया और विपक्षी दलों ने मोदी सरकार पर हिंसा को रोकने के लिए अनुचित और अपर्याप्त कदम उठाने का आरोप लगाया। सरकार और मोदी द्वारा निभाई गई भूमिका की जांच के लिए अप्रैल 2009 में सुप्रीम कोर्ट ने एक विशेष जांच दल (एसआईटी) नियुक्त किया था। एसआईटी ने दिसंबर, 2010 में अदालत को एक रिपोर्ट सौंपी जिसमें कहा गया कि उन्हें मोदी के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिला। हालांकि, एसआईटी पर जुलाई, 2013 में साक्ष्य छिपाने का आरोप लगाया गया था।
  • इसके फलस्वरूप, विभिन्न विपक्षी दलों और सहयोगियों ने भाजपा पर मुख्यमंत्री के पद से मोदी के इस्तीफे की मांग के साथ दबाव डाला। लेकिन बाद के चुनावों में बीजेपी ने 182 सीटों में से 127 सीटें जीतकर पूर्ण बहुमत हासिल किया।
दूसरा कार्यकाल (2002 से 2007)
  • मोदी ने गुजरात के आर्थिक विकास पर विशेष ध्यान दिया, जिसके परिणामस्वरूप राज्य एक निवेश गंतव्य के रूप में उभरा।
  • उन्होंने राज्य में प्रौद्योगिकी और वित्तीय पार्कों की स्थापना की।
  • 2007 में गुजरात में हुए वाइब्रेंट गुजरात शिखर सम्मेलन में 6,600 अरब रुपये के रियल एस्टेट निवेश सौदे पर हस्ताक्षर किए गए।
  • जुलाई 2007 में, मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में लगातार 2,063 दिन पूरे किए और गुजरात के मुख्यमंत्री के पद पर अधिकतर दिनों तक बने रहने का रिकॉर्ड बनाया।
तीसरा कार्यकाल (2007 से 2012)
  • बुनियादी ढांचे के क्षेत्र में विकास परियोजनाओं ने 2008 में 5,00,000 संरचनाओं का निर्माण देखा, जिनमें से 1,13,738 चेक बांध थे। 2010 में, 112 तहसीलों में से 60 ने सामान्य भूजल स्तर हासिल किया। इसके परिणामस्वरूप आनुवंशिक रूप से संशोधित बीटी कपास के उत्पादन में वृद्धि हुई। 2001- 2007 के दौरान गुजरात में कृषि वृद्धि दर 9.6 प्रतिशत बढ़ी और 2001-2010 के दशक में गुजरात में कंपाउंड वार्षिक वृद्धि दर 10.97 प्रतिशत तक पहुंच गई, जो कि भारत के सभी राज्यों में सबसे ज्यादा थी।
  • ग्रामीण क्षेत्रों में बिजली की आपूर्ति प्रणाली में एक क्रांतिकारी परिवर्तन करने से कृषि को बढ़ावा देने में मदद मिली।
  • सद्भावना मिशन या गुडविल मिशन का आयोजन 2011 के अंत में और 2012 के शुरुआत में राज्य में मुस्लिम समुदाय तक पहुंचने के लिए किया गया था। मोदी नेविश्वास किया कि यह कदम "शांति, एकता और सद्भाव से गुजरात के पर्यावरण को और मजबूत करेगा।"
चौथा कार्यकाल (2012 से 2014)
  • भारी अंतर से जीतने के बाद मोदी मणिनगर के निर्वाचन क्षेत्र से चुने गए।

पुरस्कार

  • श्री पूना गुजराती बंधु समाज के शताब्दी समारोह में, नरेंद्र मोदी को गणेश कला क्रिडा मंच में गुजरात रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।
  • भारत के कंप्यूटर समाज ने उन्हें ई-रत्न पुरस्कार प्रदान किया।
  • 2009 में, एफडीआई पत्रिका ने उन्हें एफडीआईपर्सनैलिटी ऑफ द ईयर पुरस्कार के एशियाई विजेता के रूप में सम्मानित किया।
पहचान
  • 2006 में, इंडिया टुडे ने एक राष्ट्रव्यापी सर्वेक्षण किया जिसने उन्हें भारत में सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री घोषित किया गया।
  • मार्च 2012 में, टाइम पत्रिका ने मोदी को अपने एशियाई संस्करण के कवर पेज पर दिखाया। वे टाइम पत्रिका के कवर पेज पर प्रदर्शित होने वाले भारत के बहुत कम राजनेताओं में से एक हैं।
  • 2014 में, मोदी को दुनिया के सबसे प्रभावशाली लोगों की 'टाइम 100' सूची में शामिल किया गया था।
  • मोदी 2014 में ट्विटर पर सबसे ज्यादा फॉलो किए जाने वाले 'एशियाई नेता' बने।
  • "2014 में “फोर्ब्स” ने मोदी को दुनिया में '15 वें th सबसे शक्तिशाली व्यक्ति' का दर्जा दिया।

नरेंद्र मोदी पर आधारित पुस्तकें

नरेंद्र मोदी- अ पोलिटिकल बायोग्राफी
एंडी मरीनो द्वारा “नरेंद्र मोदी-अ पोलिटिकल बायोग्राफी” पुस्तक 'नरेंद्र मोदी, उनके व्यक्तित्व और उनके राजनीतिक जीवन को एक स्पष्ट तस्वीर प्रदान करने का प्रयास करती है। यह पाठकों को मोदी के शासन के तरीकों को बेहतर तरीके से समझने में सक्षम बनाती है। यह पुस्तक गुजरात मॉडलकेशासन पर विपरीत दृष्टिकोण का विश्लेषण करती है। एंडी मरीनो की यह पुस्तक हमें मोदी के बचपन से युवा होने तक की जीवन यात्रा से अवगत कराती है जो भारत के प्रधान मंत्री बनने की राह पर आगे बढे।

सेंटर स्टेज: नरेंद्र मोदी मॉडल ऑफ गवर्नेंस
उदय महाकर की सेंटर स्टेज: इनसाइड द नरेंद्र मोदी मॉडल ऑफ गवर्नेंस’ मोदी के संतुलित और अवैतनिक शासन के मंत्र को समझाती है। महाकर न केवल मोदी की दूरदर्शी योजनाओं के बारे में बात की है बल्कि उन मुद्दों के बारे में भी बात की है जिन पर मोदी अधिक ध्यान दे सकते थे और भी बेहतर प्रदर्शन कर सकते थे।पुस्तक में बताया गया है कि मोदी ने अपने कार्यकाल के दौरान गुजरात राज्य को किस तरह से बदल दिया औरमोदी मॉडल ऑफ गवर्नेंस ने मुख्य विशेषताएं का विश्लेषण किया।

मोदी: मेंकिग ऑफ अ प्राइम मिनिस्टरः लीडरशिप, गवर्नेंस एंड परफॉरमेंस
विवियन फर्नांडीज ने इस किताब मेंगुजरात के राजनीतिक परिदृश्य और उदार भारतीय के दृष्टिकोण से मोदी के शासन के बारे में लिखा है।दूसरे शब्दों में, यह पुस्तक मोदी पर कोई पक्ष या निर्णय नहीं लेती है। विवियन ने किताब में उन तरीकों का वर्णन किया है जिनमें मोदी ने गुजरात की आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए किस तरह से अवसरों का सदुपयोग किया था।

द मैन ऑफ द मोमेंट - नरेंद्र मोदी
एम वी कामथ और कालिंदी रेंदेरी द्वारा लिखित 'द मैन ऑफ द मोमेंट:नरेंद्र मोदीके सफल राजनेता के जीवन और विकास को उजागर करती हैजिन्होंने भारत में राजनीति की सीमाओं का विस्तार किया है।किताब यह भी बताती है कि आलोचना के सामने दृढ़ बने रहने के साथ नरेंद्र मोदी की प्रेरणा और आश्चर्यजनक सहनशक्ति को उजागर किया है।

द नमो स्टोरी: ए पॉलिटिकल लाइफ
'किंन्ग्शुक नाग द्वारा 'द नमो स्टोरी: ए पॉलिटिकल लाइफ' एक असाधारण राजनेता नरेंद्र मोदी का एक शानदार व्याख्यान करती हैजिसमें एक चाय विक्रेता के बेटे से गुजरात के मुख्यमंत्री तक के सफर का वर्णन है। किताब की शुरूआत राजनीतिक स्थिति और 1990 के सुधारों के एक छोटे से इतिहास से होती है। इसमें वर्णित किया गया है कि मोदी ने बीजेपी को हिंदुत्व एजेंडा बनाने के लिए अपने प्रशासनिक कौशल का कैसे उपयोग किया।

नरेंद्र मोदी: द गेमचेंजर
सुदेश वर्मा की'नरेंद्र मोदी - द गेमचेंजर' ने नरेंद्र मोदी को एक गेम चेंजर के रूप में दिखायाहै जो कि विपक्षी दलों और आलोचकों को कैसे अपने काम से जवाब देते हैं।यह पुस्तक मोदी और उनके करीबी सहयोगियों की उन सभी चीजों और इंटरव्यूपर आधारित है जिन्होंने अपने विचारों और कार्यों से मोदी एक उत्कृष्ट व्यक्ति के रूप में विकसित किया है।एक औसत व्यक्ति मोदी के जीवन से अपने संघर्ष का प्रतिबिंब पा सकता है।

नरेंद्र मोदी द्वारा लिखी पुस्तकें

ज्योतिपुंज
'ज्योतिपुंज' में उन सभी लोगों के बारे में लिखा गया है जो नरेंद्र मोदी को प्रभावित करते हैं और जिनका मोदी की कार्य-शैली पर मजबूत प्रभाव पड़ा।मोदी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के साथ शुरुआत में एक कार्यकर्ता और फिर 'प्रचारक' के रूप में जुड़े थे। इसमें उन लोगों के बारे में लिखा गया है जिन्होंने उन्हें प्रेरित किया। पुस्तक में उन लोगों के विचारों का प्रतिबिंब भी शामिल है।

एडोब ऑफ लव
'एबोड ऑफ लव' नरेंद्र मोदी द्वारा लिखित आठ छोटी कहानियों का एक संग्रह है।यह मोदी ने बहुत ही कम उम्र में लिखी थी।यह उनके संवेदात्मक और स्नेह युक्त व्यक्तित्व को दर्शाती है।मोदी का मानना है कि मां का प्यार सभी प्रेम का स्रोत है और यह सबसे उत्कृष्ट प्रेम है। प्रेम का कोई भी प्रकार – प्रेमी, दोस्त आदि सभी माँ के प्रेम का प्रतिबिंब हैं। यह पुस्तक मानव संबंधों के पहलुओं को एक सुंदर तरीके से उजागर करती है।

प्रेमतीर्थ
'प्रेमतीर्थ' किताब नरेंद्र मोदी द्वारा लिखी गई छोटी कहानियों का संग्रह है। इस पुस्तक में, मोदी ने माँ के प्रेम को बहुत ही आम और प्रभावी भाषा में समझाया हैं।

केल्वे ते केलवानी
'केल्वे तेकेलवानी' का अर्थ है 'शिक्षा वो होती है जो पोषण करती है'। यह पुस्तकभारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बुद्धिमत्ता पूर्ण वक्तव्यों का संग्रहहै। यह गुजरात में ज्ञान क्रांति लाने के लिए उनके विचार और उनकी दृष्टिकोण को दर्शाती है। यह शिक्षा के प्रति उनके प्यार को दिर्शाती है।

साक्षीभाव
'साक्षीभाव' में जगत जननी माँ को लिखे पत्रों की एक श्रृंखला है। यह नरेंद्र मोदी के अंतर्मन और उनके भावों को बताती है।यह पुस्तक आरएसएस के कार्यकर्ता के रूप में शामिल होने पर अपने संघर्षों के समय मोदी के भावनात्मक विचार को सामने लाती है।

समाजिक समरसता
'समाज समरसता' नरेंद्र मोदी के लेख और व्याख्यान का संग्रह है। वाक्यांश, "अपनी राय को सिर्फ शब्दों में ही नहीं कामों से भी व्यक्त करो” इस पुस्तक के लिए उपयुक्त मुहावरा है।यह पुस्तक मोदी के समाजिक समरसता की समझ को बताती हैं जिसमें जाति आधारित कोई वर्गीकरण ना हो और दलितों के साथ उनकी बातचीत की कई वृत्तांतको उजागर करती है। कई सामाजिक सुधारकों की जीवन घटनाओं को भी दर्शाया गया है।

कन्वीनिएँनट एक्शन: गुजरात रेस्पोंसटू चैलेंजस ऑफ क्लाइमेट चेंज

कन्वीनिएँनट एक्शन:गुजरात रेस्पोंसटू चैलेंजस ऑफ क्लाइमेट चेंज, अंग्रेजी में प्रकाशित यह मोदी की पहली पुस्तक है। यह पुस्तक गुजरात राज्य में जलवायु परिवर्तन और राज्य के लोग के इस परिवर्तन से सामना करने के तरीके के बारे में बताया गया है।ताकि मोदी के नेतृत्व में, राज्य के लोगों को ऐसी चुनौतियों का सामना करने के तरीके मिल सके।

मोदी सरकार का 100 दिन का कार्य सारांश

26 मई2014 को, जब प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने पदभार संभाला था, तो दुनिया ने उन्हें उच्च उम्मीदों के साथ देखा था। उन्होंने अपने घोषणा पत्र में मुद्रास्फीति को कम करने, सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) को नवीनीकृत करने और विदेशों से काले धन वापस लाने पर जोर दिया था।चूँकि सरकारके 100 दिन पूरे करने के बादएक चीज जोसामने उभर कर आयी है वह यह है कि जैसा उन्होंने कहा था वैसा ही किया।इन दिनों, सरकार घोषणापत्र के बाकी बचे कार्योंको देख रही है और उन्हें पूरा रही है।हालांकि, इनके सभी कार्य आलोचनात्मक हैं। कुछ पहल इस प्रकार है जिसने शाबाशी प्राप्त की हैः
-- सार्क के माध्यम से द्विपक्षीय संबंध; ब्रिक्स;
-- डब्ल्यूटीओ स्टैंड
-- बजट एक बड़ी हिट थी
-- एफडीआई पॉलिसी
-- रिफॉर्म बिल
-- सफाई अभियान
-- डिजिटल इंडिया पहल

सरकार ने हिंसा और सुरक्षा मुद्दे, एलओपी सीट की अधिकता, राज्यपालों का स्थानांतरण,, काले धन की समस्या और मुद्रास्फीति के लिए भी आलोचना प्राप्त की है।

WordPress › Error

There has been a critical error on your website.

Learn more about debugging in WordPress.




100 days of Modi Government

Day 1Day 2Day 3Day 4Day 5Day 6Day 7Day 8Day 9Day 10
Day 11Day 12Day 13Day 14Day 15Day 16Day 17Day 18Day 19Day 20
Day 21Day 22Day 23Day 24Day 25Day 26Day 27Day 28Day 29Day 30
Day 31Day 32Day 33Day 34Day 35Day 36Day 37Day 38Day 39Day 40
Day 41Day 42Day 43Day 44Day 45Day 46Day 47Day 48Day 49Day 50
Day 51Day 52Day 53Day 54Day 55Day 56Day 57Day 58Day 59Day 60
Day 61Day 62Day 63Day 64Day 65Day 66Day 67Day 68Day 69Day 70
Day 71 Day 72Day 73Day 74Day 75Day 76Day 77Day 78Day 79Day 80
Day 81 Day 82 Day 83 Day 84 Day 85 Day 86 Day 87 Day 88 Day 89 Day 90
Day 91 Day 92 Day 93 Day 94 Day 95 Day 96 Day 97 Day 98 Day 99 Day 100

26 अक्टूबर, 2018 को अंतिम अपडेट किया गया[an error occurred while processing this directive]



[an error occurred while processing this directive]