Q
Which state goes to assembly elections 2018 next?
Elections.in WhatsappJoin Us on Whatsapp
News at a Glance

भारत के राष्ट्रीय प्रतीक



Track your constituency

भारत के राष्ट्रीय प्रतीक, राष्ट्र को एक अद्वितीय पहचान प्रदान करते हैं और हमारे मन में एक सभ्य देश के रूप में इसकी एक छवि बनाते हैं। नागरिकों के बीच गर्व और देशभक्ति की भावनाओं को जन्म देने के लिए मुद्रा, वनस्पति, जीव और यहां तक कि संगीत को विशेष प्रतीकों के रूप में माना गया है। प्रतीकों को अलग-अलग समय पर चुना गया है। प्रत्येक का एक अनोखा अर्थ है, जो ताकत, पवित्रता, अमरत्व, शक्ति, गौरव और साहस का प्रतीक है।

1. राष्ट्रीय ध्वज:

भारत का ध्वज 22 जुलाई 1947 को तिंरगे के रूप में अपनाया गया था और 15 अगस्त 1947 को यह देश का आधिकारिक ध्वज बन गया था। यह पिंगली वैंकैया द्वारा डिजाइन किया गया था। राष्ट्रीय ध्वज में समान अनुपात वाली तीन रंग की पट्टियां होती हैं। पहली पट्टी गहरे भगवा रंग की है जो साहस का प्रतीक है। बीच में सफेद रंग पट्टी की है जो शुद्धता का प्रतीक है, जबकि नीचे की पट्टी हरे रंग की है, जो उर्वरता का प्रतीक है। बीच की पट्टी में 24 तीलियों के साथ एक गहरे नीले रंग का चक्र होता है। चक्र को कानून का चक्र, अशोक चक्र या धर्म चक्र भी कहा जाता है।

2. राष्ट्रीय गान:

भारत के राष्ट्रीय गान के रूप में ‘जन गण मन’ को 24 जनवरी 1950 को संविधान सभा द्वारा आधिकारिक तौर पर अपनाया गया था। इस गीत को बंगाली कवि रवींद्रनाथ टैगोर द्वारा लिखा गया था और बाद में इनके द्वारा बंगाली से अंग्रेजी में अनुवाद किया गया था। इसे पहली बार कलकत्ता में भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के सत्र में 27 दिसंबर 1911 को गाया गया था। राष्ट्रीय गान देश के सभी महत्वपूर्ण राष्ट्रीय कार्यक्रमों में गाया जाता है। राष्ट्रीय गान को गाने में 52 सेकंड का समय लगता है, हालांकि, इसके छोटे संस्करण, जिसमें केवल पहली और आखिरी पंक्तियां शामिल हैं, को 20 सेकंड में गाया जा सकता है।

3. राष्ट्रीय गीत:

वंदे मातरम् बंगाली और संस्कृत के मिश्रण में बंकिमचंद्र चटर्जी द्वारा लिखित गीत में कुल 6 पद है। यह गीत पहली बार इनके उपन्यास आनंदमठ में 1882 में निर्गत था। 1950 में, गीत के पहले दो पद को राष्ट्रीय गीत के रूप में अपनाया गया था। इस गीत को गाने वाले रवींद्रनाथ टैगोर पहले व्यक्ति थे। इसे पहली बार 1896 में कांग्रेस के राजनीतिक चुनाव में गाया गया था।

4. राष्ट्रीय कैलेंडर:

शक कैलेंडर को 22 मार्च 1957 को राष्ट्रीय कैलेंडर के रूप में अपनाया गया था। इसका आधिकारिक उपयोग इसे राष्ट्रीय कैलेंडर के रूप में अपनाने के दिन से शुरू हुआ था। 1 चैत्र, 1879 को शक युग भी कहा जाता है। कैलेंडर की तिथियां ग्रेगोरियन कैलेंडर के समान ही हैं। इसमें चंद्र महीने और सौर नक्षत्र के वर्ष हैं। कैलेंडर उष्णकटिबंधीय सौर वर्षों पर आधारित है। इसे हिंदू कैलेंडर भी कहा जाता है।

5. भारत का राष्ट्रीय चिन्ह

भारत का राष्ट्रीय प्रतीक सिंह को अशोक की सारनाथ राजधानी से लिया गया है। यह 26 जनवरी 1950 को सरकार द्वारा अपनाया गया था, जिस दिन भारत गणतंत्र देश बना था। सिंह स्तम्भ के शिखर पर

4 शेर हैं जिसमें धर्म चक्र पूरे ढांचे के सामने प्रदर्शित होता है। चक्र के दोनों किनारों पर एक बैल और एक घोड़ा भी है।

पूरी संरचना के नीचे, देवनागरी लिपि में एक उद्धरण है जिसे मुंडका उपनिषद से लिया गया था। उद्धरण में "सत्यमेव जयते" लिखा है, जिसका अर्थ है “सिर्फ सत्य की जीत हो। संरचना को पहली बार बौद्ध स्थल, सारनाथ सम्राट अशोक द्वारा लगभग 250 ईसा पूर्व में रखा गया था। यह उस स्थान को चिह्नित करता है जहां गौतम बुद्ध ने अपना पहला उपदेश दिया था। यह प्रतीक गर्व, साहस, आत्मविश्वास और शक्ति को दर्शाता है।"

6. देश के प्रति निष्ठा की शपथ:

राष्ट्रीय प्रतिज्ञा, राष्ट्रीय प्रतिज्ञा को सरकार द्वारा निष्ठा की शपथ के रूप में अपनाया गया था। मूल रूप से, इसे 1962 में तेलुगू में पायदीमाररी वेंकट सुब्बा राव ने लिखा था। बाद में, इसे कई भाषाओं में अनुवादित किया गया। इसे पहली बार विशाखापटनम स्कूल में 1963 में पढ़ा गया था। यह स्कूलों में गायन के अभ्यास को पेश करने के लिए शिक्षा पर केन्द्रीय सलाहकार बोर्ड द्वारा निर्देशित किया जाता है। प्रतिज्ञा स्कूल पाठ्यपुस्तकों के शुरुआती पृष्ठों में भी लिखी जा सकती है। इसे आम तौर पर राष्ट्रीय कार्यक्रमों जैसे गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस, कॉलेजों और स्कूलों में समारोहों पर सुनाया जाता है।


7. राष्ट्रीय फल:

आम सबसे पहले भारत में उत्पादित हुआ था। इसे राष्ट्रीय फल के रूप में अपनाया गया है। इसे प्राय: फलों का राजा के नाम से पुकारा जाता है और सभी उम्र के लोगों द्वारा इसका लुत्फ उठाया जाता है। आम की ज्ञात 100 से अधिक किस्में हैं, जो आकार, रंग और आकृति की विशेषताओं पर वर्गीकृत हैं। आम कई कवियों के कलात्मक कार्यों का भी हिस्सा रहा है। यह फल विटामिन ए, सी और डी जैसे पोषक तत्वों से समृद्ध है और इसके कई स्वास्थ्य लाभ है। यह लगभग पूरे देश में उगाया जाता है। इसके अलावा, हर साल अंतर्राष्ट्रीय आम महोत्सव राजधानी दिल्ली में मनाया जाता है, जहाँ फल की सभी भारतीय किस्में प्रदर्शित होती हैं।

8. राष्ट्रीय नदी:

नवंबर 2008 में गंगा नदी को राष्ट्रीय नदी के रूप में नामित किया गया था। इस नदी के बेसिन पर पूरी दुनिया में सबसे अधिक आबादी निवास करती है। गंगा नदी हिमालय में गंगोत्री ग्लेशियर से निकलती है। इसे अपने मूल बिंदु पर भागीरथी नदी कहा जाता है। इसका बहुत ही धार्मिक महत्व है और इसे हिंदुओं द्वारा एक पवित्र नदी भी माना जाता है। यह देश की सबसे लंबी नदी भी है, जिसमें 2500 कि.मी. घाटियों, पहाड़ों और मैदानी इलाकों को शामिल किया गया है। यह हिंद महासागर, बंगाल की खाड़ी के पूर्वोत्तर भाग में समाप्त हो जाता है।

9. राष्ट्रीय फूल:

कमल का फूल भारतीय पौराणिक कथाओं में एक बहुत ही पवित्र स्थान रखता है और हमेशा भारतीय संस्कृति में शुभ माना जाता है। यह पवित्रता और सांस्कृतिक गौरव का प्रतीक है। यह ज्ञान, प्रजनन, अच्छा भाग्य, सम्मान, लंबे जीवन, हृदय और मन की पवित्रता और समृद्धि को भी प्रदर्शित करता है। यह पूरे देश में धार्मिक प्रथाओं के लिए प्रयोग किया जाता है।

10. राष्ट्रीय पेड़:

बरगद का पेड़ भारत राष्ट्रीय पेड़ है और अमरत्व का प्रतीक है। इस पेड़ की जड़ें समय के साथ एक बड़े क्षेत्र में फैल जाती हैं। यह लंबी उम्र का प्रतिनिधित्व करता है और हिंदू पौराणिक कथाओं का भी एक हिस्सा रहा है। विशाल शाखाएं, मजबूत टहनियाँ और गहरी जड़ें इसकी विशेषताएं हैं और अन्य पेड़ों से इसकी उम्र अधिक होती है। इसे अक्सर मंदिरों के पास लगाया जाता है और आश्रय यह प्रदान करने के लिए प्रसिद्ध है। इसका एक बड़ा औषधीय महत्व भी है जो कई बीमारियों के इलाज के लिए फायदेमंद है। संस्कृत में, इसे कल्पवृक्ष भी कहा जाता है और प्राचीन कहानियों के अनुसार, इसे एक दिव्य वृक्ष माना जाता है जो इच्छाओं को पूरी कर सकता है। यह गांवों में बैठकों और पंचायतों के लिए एक सभा बिंदु के रूप में भी कार्य करता है। यह पूरे देश में मिल सकता है।

11. राष्ट्रीय पशु:

रॉयल बंगाल टाइगर केवल भारत में पाया जा सकता है और इसे देश के राष्ट्रीय पशु के रूप में अपनाया गया है। इस मांसभक्षी पशु की आबादी पूरे देश में विद्यमान है। यह अपनी चमकीली पीले रंग की धारियों के कारण सबसे अलग दिखाई देता है और यह ताकत, असाधारण शक्ति, गौरव का प्रतिनिधित्व करता है। इसके अलावा, दुनिया में आधे से ज्यादा बाघों की आबादी भारत में पाई जाती है। भारत में इनके संरक्षण और सुरक्षा के लिए कुल 23 बाघ अभयारण्य को स्थापित किए गए हैं।

12. राष्ट्रीय जलीय जीव:

भारतीय उपमहाद्वीप में डॉल्फिन नदी की दो प्रजातियां हैं, एक सिंधु नदी डॉल्फिन है और दूसरी गंगा नदी डॉल्फिन है। इसे देश के उत्तरार्द्ध में राष्ट्रीय जलीय पशु के रूप में अपनाया जाता है। लचीली और मजबूत शरीर इसकी विशेषता है और कम त्रिकोणीय पृष्ठीय पंख और बड़े पर होते है। यह 150 किलोग्राम के वजन की हो सकती है। मादा मछलियां आम तौर पर नर मछलियों की तुलना में बड़ी होती हैं। इसके बच्चे शुरुआत में चॉकलेट भूरे रंग के होते हैं और बाद में हल्के भूरे रंग के होते हैं। ये केवल ताजे और शुद्ध पानी में जीवित रहती हैं। इन्हें दुनिया के सबसे पुराने जीवों के रूप में भी समझा जाता है। हालांकि, अब यह लुप्तप्राय प्रजातियों में गिनी जाती है और इसकी सुरक्षा के लिए कई संरक्षण कार्यों को लॉन्च किया गया है।

13. राष्ट्रीय पक्षी:

भारतीय मोर देश के लिए देशीय पक्षी है। यह लालित्य का प्रतीक है और सभी रंगों की एकता का प्रतिनिधित्व करता है। भारतीय संस्कृति में इस पक्षी का भी बहुत महत्व है। भारत सरकार ने 1 फरवरी, 1963 में मोर को राष्ट्रीय पक्षी के रूप में नामित किया था। प्रेस राय और विभिन्न राज्य सरकारों के विचारों के बाद राष्ट्रीय पक्षी के रूप में अपनाने का निर्णय लिया गया। मोर पवित्रता, सुंदरता और गर्व का प्रतीक है। पतला, लम्बी गर्दन और बड़े पंख इसकी विशेषता है। मादाओं की तुलना में नर अधिक सुन्दर होते हैं। वे अक्सर अपने पंख फैलाते हैं और बरसात के मौसम में नृत्य करते हैं। हिंदू पौराणिक कथाओं में, मोर पक्षी को भगवान मुरुगा के वाहन के रूप में भी माना जाता है।

14. राष्ट्रीय मुद्रा:

भारतीय रुपया, भारत गणराज्य की आधिकारिक मुद्रा है। इस मुद्रा का चलन भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा नियंत्रित किया जाता है। रुपए का प्रतीक आईआईटी गुवाहाटी के एक सहायक प्रोफेसर उदय कुमार धर्मलिंगम द्वारा डिजाइन किया गया है। यह डिजाइन भारतीय तिरंगा पर आधारित है। भारतीय रुपये का प्रतीक देवनागरी व्यंजन “र” (रा) से लिया गया है। रुपए के प्रतीक को लेकर सिक्के 2011 में जारी किए गए थे।

15. राष्ट्रीय सूक्ष्मजीव:

18 अक्टूबर 2012 को भारत के पर्यावरण और वन राज्य मंत्री जयंती नटराजन द्वारा लैक्टोबैसिलस डेलब्रूयूकी को देश के राष्ट्रीय सूक्ष्मजीव के रूप में अपनाने की घोषणा की गई थी। माइक्रोब को उन बच्चों द्वारा चुना गया था जो विज्ञान एक्सप्रेस जैव विविधता विशेष थे।

राष्ट्रीय प्रतीक हमारे देश को वास्तव में अद्वितीय व्यवहार में अपनी पहचान व्यक्त करने और दुनिया के सामने एक बेमिसाल छवि बनाने में मदद करते हैं।
Last Updated on September 26, 2018