Q
Which state goes to assembly elections 2018 next?
Elections.in WhatsappJoin Us on Whatsapp

छत्तीसगढ़ विधान सभा चुनाव 2018


छत्तीसगढ़ विधान सभा चुनाव 2018-मतदान विवरण

चरण पहला मतदान (18 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के चुनावों के लिए)
मतदान घटनाक्रमकार्यक्रम दिनांककार्यक्रम दिवस
राजपत्र अधिसूचना जारी करने की तिथि16.10.2018 मंगलवार
नामांकन की अंतिम तिथि23.10.2018 मंगलवार
नामांकन की जांच के लिए तिथि24..2018 बुधवार
उम्मीदवारों को वापस लेने की अंतिम तिथि26.10.2018 शुक्रवार
मतदान की तारीख12.11.2018सोमवार
गिनती की तारीख11.12.2018 मंगलवार
जिस तारीख से पहले चुनाव पूरा हो जाएगा13.12.2018 गुरूवार

दूसरा चरण मतदान (72 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के चुनावों के लिए)
मतदान घटनाक्रमकार्यक्रम दिनांककार्यक्रम दिवस
राजपत्र अधिसूचना जारी करने की तिथि26.10.2018 शुक्रवार
नामांकन की अंतिम तिथि111.2018शुक्रवार
नामांकन की जांच के लिए तिथि03.11.2019 शनिवार
उम्मीदवारों को वापस लेने की अंतिम तिथि05.11.2018 सोमवार
मतदान की तारीख20.11.2018 मंगलवार
गिनती की तारीख11.12.2018 मंगलवार
जिस तारीख से पहले चुनाव पूरा हो जाएगा13.12.2018 गुरूवार

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 में किस्मत आजमा रहे दिग्गज नेताओं की सूची


उम्मीदवार का नामविधानसभा क्षेत्रदललिंगजन्मतिथि शिक्षाआपरधिक रिकॉर्डसंपत्ति
रमन सिंहराजनांद गांवभाजपापुरुष15 अक्टूबर 1952बी.ए.एम.एस.कोई आपराधिक केस नहीं5.61 करोड़
करुणा शुक्लाबिलासपुरकांग्रेसमहिला1 अगस्त 1950स्नातकोत्तरकोई आपराधिक केस नहीं3.02 करोड़
देवती कर्मादंतेवाड़ाकांग्रेसमहिला1962साक्षरकोई आपराधिक केस नहीं4.63 करोड़
अजीत जोगीमहासमुंदछत्तीसगढ़ जनता कांग्रेसपुरुष29 अप्रैल 1946मैकेनिकल इंजीनियर2 आपराधिक केस6.15 करोड़
अमित जोगीमरवाहीछत्तीसगढ़ जनता कांग्रेसपुरुष7 अगस्त 1978एलएलबी2 आपराधिक केस2.14 करोड़
अजय चंद्राकरकुरूदभाजपापुरुष24 जून, 1963एमए हिंदी साहित्यकोई आपराधिक केस नहीं8.17 करोड़
केदार कश्यपनारायण पुरभाजपापुरुष5 नवंबर 1974एमए हिंदीकोई आपराधिक केस नहीं1.96 करोड़
दयाल दास बघेलनवागढ़भाजपापुरुष1 जुलाई 19549वींकोई आपराधिक केस नहीं1.32 करोड़
भैया लाल राजवाड़ेबैकुंठपुरभाजपापुरुष25 जनवरी 194911वींकोई आपराधिक केस नहीं62 लाख
राजेश मूणतरायपुर पश्चिमभाजपापुरुष28 अप्रैल, 1963जानकारी नहींकोई आपराधिक केस नहीं3.1 करोड़
बृज मोहन अग्रवालरायपुर नगर दक्षिण,भाजपापुरुषएक मई, 1959एमकॉम, एमए, एलएलबीकोई आपराधिक केस नहीं3.05 करोड़
प्रेम प्रकाश पाण्डेयभिलाई नगरभाजपापुरुष8 मार्च, 1958एमएससी गणितकोई आपराधिक केस नहीं4.25 करोड़
टीएस सिंह देवअंबिकापुरकांग्रेसपुरुष31 अक्तूबर, 1952एमए इतिहासकोई आपराधिक केस नहीं5.65 करोड़
सत्य नारायण शर्मारायपुर ग्रामीणकांग्रेसपुरुष5 जनवरी 194312वीं1 आपराधिक केस4.49 करोड़
ताम्रध्वज साहूदुर्गकांग्रेसपुरुष6 अगस्त 194912 वींकोई आपराधिक केस नहीं2.10 करोड़
युध्दवीर सिंहचन्द्रपुरभाजपापुरुष1मार्च  198212 वींकोई आपराधिक केस नहीं1.42 करोड़
घनेंद्र साहूअभनपुरकांग्रेसपुरुष3 जुलाई 195212 वीं2 आपराधिक केस5.32 करोड़
चरण दास महंतकोरबाकांग्रेसपुरुष13 दिसंबर 1954एमए, एलएलबी, पीएचडीकोई आपराधिक केस नहीं4.27 करोड़

चुनाव नवीनतम समाचार और अपडेट

Now the Baghel government prevention of CBI in Chhattisgarh आंध्रप्रदेश और पश्चिम बंगाल के बाद, अब छत्तीसगढ़ में भी बघेल सरकार ने लगाया सीबीआई की एंट्री पर बैन

छत्तीसगढ़ में बंपर जीत दर्ज करने के बाद, कांग्रेस सरकार ने अब प्रदेश में सीबीआई की एंट्री पर बैन लगाने का फैसला लिया है। सीबीआई में चल रही उठापटक के आगे पढ़ें…

सीएम बनते ही कमलनाथ, बघेल ने किसानों का कर्ज किया माफ, सज्जन कुमार के बुरे दिन शुरू

मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के नए मुख्यमंत्री कमलनाथ और भूपेश बघेल ने सोमवार को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते ही किसानों के कर्ज माफी के दस्तावेज पर हस्ताक्षर कर मंजूरी आगे पढ़ें…

Chhattisgarh छत्तीसगढ़ में कुछ ही देर में भूपेश बघेल लेंगे सीएम पद की शपथ, तीनो दावेदारों के पैर छूकर लिया आर्शिवाद  

11 दिसंबर को छत्तीसगढ़ में भारी बहुमत के साथ चुनाव जीतने के बाद कांग्रेस ने अपने सीएम के नाम की घोषणा भी कर दी। दिल्ली से रायपुर आए पर्यवेक्षकों, मल्लिकार्जुन आगे पढ़ें…

छत्तीसगढ़ के नए मुख्यमंत्री बने भूपेश बघेल

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री के नाम की आधिकारिक घोषणा हो गई है और प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल राज्य के मुख्यमंत्री होंगे। टीएस सिंहदेव, ताम्रध्वज साहू और चरण दास महंत जैसे दावेदारों आगे पढ़ें…


Track your constituency

छत्तीसगढ़ उपचुनाव 2014

निर्वाचन क्षेत्रराज्यउम्मीदवार का नामपार्टीवोट
अंतागढ़अपूर्ण-एन. ए.-

छत्तीसगढ़ (सीजी) उपचुनाव 2014

छत्तीसगढ़ राज्य में 13 सितंबर को उप-चुनाव आयोजित होने वाले हैं। अंतागढ़ (एसटी) के विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र हेतु खाली सीट के लिए मतदान आयोजित किया जाएगा। विक्रम उसेंडी को लोकसभा का सदस्य चुने जाने के बाद मौजूदा विधायक ने निर्वाचित क्षेत्र से इस्तीफा दे दिया इसलिए यह सीट खाली हो गई।

छत्तीसगढ़ लोकसभा चुनाव सारांश 2014

2014 के लोकसभा चुनावों के बाद छत्तीसगढ़ राज्य में भाजपा का शासन जारी रहा। 2014 के चुनावों में भाजपा ने 11 में से 10 सीटें जीतीं तथा कांग्रेस ने केवल एक सीट जीती थी। छत्तीसगढ़ राज्य का गठन 2000 में, मध्य प्रदेश से अलग होने के बाद हुआ था। छत्तीसगढ़ राज्य में चार सीटों सहित 11 संसदीय निर्वाचन क्षेत्र हैं जिनमें से दो सीटें अनुसूचित जाति तथा शेष अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित हैं। छत्तीसगढ़ की वर्तमान सरकार भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के शासन के अधीन है और इसका नेतृत्व मुख्यमंत्री रमन सिंह करते हैं। सत्ताधारी पार्टी भाजपा के अतिरिक्त, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (आईएनसी) और बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) राज्य में मजबूत पार्टियाँ हैं। छत्तीसगढ़ में 16वें लोकसभा चुनावों के लिए मतदान तीन अलग-अलग चरणों में हुआ था और राजनीतिक नेताओं जैसे कांग्रेस के कमलेश्वर वर्मा, पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी और अभिषेक तथा वर्तमान समय के मुख्यमंत्री के बेटे रमन सिंह चुनावी मैदान में थे।

2014 के लोकसभा चुनावों के बाद छत्तीसगढ़ राज्य में भाजपा का शासन जारी रहा। 2014 के चुनावों में भाजपा ने 11 में से 10 सीटें जीतीं तथा कांग्रेस ने केवल एक सीट जीती थी। छत्तीसगढ़ राज्य का गठन 2000 में, मध्य प्रदेश से अलग होने के बाद हुआ था। छत्तीसगढ़ राज्य में चार सीटों सहित 11 संसदीय निर्वाचन क्षेत्र हैं जिनमें से दो सीटें अनुसूचित जाति तथा शेष अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित हैं। छत्तीसगढ़ की वर्तमान सरकार भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के शासन के अधीन है और इसका नेतृत्व मुख्यमंत्री रमन सिंह करते हैं। सत्ताधारी पार्टी भाजपा के अतिरिक्त, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (आईएनसी) और बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) राज्य में मजबूत पार्टियाँ हैं। छत्तीसगढ़ में 16वें लोकसभा चुनावों के लिए मतदान तीन अलग-अलग चरणों में हुआ था और राजनीतिक नेताओं जैसे कांग्रेस के कमलेश्वर वर्मा, पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी और अभिषेक तथा वर्तमान समय के मुख्यमंत्री के बेटे रमन सिंह चुनावी मैदान में थे।

छत्तीसगढ़ चुनावों के बारे में

मध्य भारत में स्थित एक प्रमुख राज्य, छत्तीसगढ़ का जोशीलापूर्ण राजनीतिक इतिहास रहा है। छत्तीसगढ़ को एक अलग राज्य बनाने की मांग 1920 के दशक की शुरुआत में की गई थी, हालांकि लोकसभा में पहली बार यह माँग 1998 में पेश की गई थी। इस प्रमुख माँग को पूरा करने के लिए दो प्रमुख दल, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने गंभीर रूप से निर्माण संबंधी प्रयास किए। 1998 में, भाजपा के नेतृत्व करने वाली केंद्रीय सरकार ने मध्य प्रदेश के सोलह दक्षिण-पूर्वी जिलों को विभाजित करके छत्तीसगढ़ के नए राज्य के निर्माण हेतु एक विधेयक तैयार किया, जिनमें उनकी मुख्य भाषा छत्तीसगढ़ी थी। इस विधेयक में कुछ परिवर्तन के बाद, मध्य प्रदेश विधानसभा द्वारा इसे सर्वसम्मति से स्वीकृत किया गया था। 1998 में आम चुनाव आयोजित हुए तथा राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए), केंद्र की सत्ता में आने के बाद, विधेयक को फिर से तैयार किया गया जिसे अब अलग छत्तीसगढ़ विधेयक कहा जाता है। इस विधेयक को पुनः मध्यप्रदेश विधानसभा में सर्वसम्मति से पारित किया गया तथा लोकसभा में प्रस्तुत किया गया। राज्यसभा और लोकसभा दोनों ने ही इस विधेयक को स्वीकृत दे दी और इसे मध्य प्रदेश पुनर्गठन अधिनियम 2000 में बनाया। इस अधिनियम को 25 अगस्त 2000 को भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति, के.आर. नारायणन द्वारा स्वीकृत तथा पारित किया गया।

1 नवंबर 2000 को भारत के 26वें राज्य के रूप में छत्तीसगढ़ का शांतिपूर्ण निर्माण देखा गया था। यह उसी दिन था जब छत्तीसगढ़ विधानसभा, राज्य के उचित शासन के लिए जिम्मेदार, का गठन हुआ था। वर्तमान समय में छत्तीसगढ़ में 27 जिले हैं। राज्य मुख्य राजनीतिक दलों की सीट है तथा भारत की राष्ट्रीय स्तर की राजनीति में योगदान देती है। छत्तीसगढ़ देश के इतिहास पर महत्वपूर्ण छाप छोड़ने वाला एक प्रमुख भारतीय राज्य है। राज्य में एक ऐसी सरकार है जो राज्य में कानून और व्यवस्था बनाए रखती है। छत्तीसगढ़ की सरकार भी देश के विकास के लिए उत्तरदायी है। राज्य सरकार का चयन विधानसभा चुनावों के माध्यम से किया जाता है, जहाँ राज्य की राजनीतिक पार्टियाँ राज्य के 90 निर्वाचन क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करने के लिए अपने-अपने प्रत्याशियों को चुनावी मैदान में उतारती हैं। राज्य की सत्ताधारी पार्टी का चयन करने के लिए समय-समय पर चुनाव आयोजित किए जाते हैं। छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री का चयन आम चुनावों के माध्यम से किया जाता है।

छत्तीसगढ़ की राजनीति मुख्य रूप से प्रमुख राष्ट्रीय राजनीतिक दलों जैसे कि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी), कांग्रेस और बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) के लिए एक रणभूमि है। वर्तमान समय में, यहाँ पर बहुमत के साथ भाजपा की सरकार है जबकि पिछली बार कांग्रेस थी। हालांकि, दोनों सरकारें राज्य की राजनीति में एक प्रभावशाली भूमिका निभाती हैं। वर्तमान समय में राज्य के मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह हैं जबकि श्री अजीत जोगी नव निर्मित राज्य के पहले मुख्यमंत्री थे। राज्य का अधिकृत मुखिया राज्यपाल होता है, लेकिन वास्तविक राजनीतिक अधिकार मुख्यमंत्री के पास हैं।

प्रशासकीय संरचना

राज्य विधानसभा में 90 सदस्य शामिल हैं। लोकसभा, निम्न सदन के 11 सदस्य और राज्यसभा, उच्च सदन के पाँच सदस्य संसद में छत्तीसगढ़ राज्य का प्रतिनिधित्व करते हैं। राज्य में 27 जिल निहित है।

राज्य के मुद्दे

माओवादी हिंसा: छत्तीसगढ़ भारत के सबसे माओवादी प्रभावित राज्यों में से एक है जहाँ पिछले दस वर्षों में बड़े पैमाने पर हिंसा के कारण कई लोगों की जान चुकी हैं। राज्य के 27 जिलों में से 18 जिले माओवादी से प्रभावित हैं। माओवादी प्रभावित क्षेत्रों में संपूर्ण विकास न होने के कारण आदिवासी बस्तर और अन्य क्षेत्रों के लोगों के लिए प्रमुख चिंता का विषय है। भाजपा अगुआई वाले रमन सिंह ने माओवादी खतरे को सख्ती से दूर करने के लिए अथक प्रयास किये हैं।

जनजातियों का कल्याण: वित्तीय रूप से कमजोर वर्गों का उत्थान अत्यंत चिंता का विषय बना हुआ है। पार्टियों ने न केवल प्राथमिक विद्यालयों की स्थापना बल्कि जनजातीय छात्रों की अभिलाषा के लिए उच्च शिक्षा प्रदान करने का भी वादा किया।

मुद्रास्फीति: बीजेपी ने अपने अभियान के दौरान मुद्रास्फीति के मुद्दे तथा विशेष रूप से भोजन की उच्च कीमतों और अन्य मूलभूत आवश्यकताओं पर ध्यान केंद्रित किया।

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2013

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2013 के परिणाम की घोषणा 8 दिसंबर को हुई थी। बीजेपी ने कांग्रेस को लगातार तीन बार हराया। राजस्थान, मध्य प्रदेश और दिल्ली राज्यों के विपरीत जहाँ छत्तीसगढ़ में कांग्रेस को भारी हार का सामना करना पड़ा जहाँ दो प्रमुख उम्मीदवारों के बीच प्रतिस्पर्धा बराबर की थी। छत्तीसगढ़ विधान सभा की 90 विधानसभा सीटों में भाजपा द्वारा 49 सीटें, कांग्रेस द्वारा 39 सीटें तथा शेष 2 सीटें अन्य राजनीतिक दलों द्वारा जीती गई थी। 2008 में हुए पिछले चुनावों की तुलना में, भाजपा ने 2013 में 3 सीटें कम जीती, जबकि कांग्रेस की 2013 के चुनाव में सीटों की संख्या में 3 सीटों की बढ़ोत्तरी हुई थी। भाजपा के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने राज्य के मुख्यमंत्री पद में लगातार तीसरी बार सफलता अर्जित की है साथ ही कांग्रेस के अजीत जोगी की उम्मीदें चकनाचूर हो गई जिन्हें इस बार चुनाव जीतने का पूरा भरोसा था। चुनाव के परिणाम बताते हैं कि छत्तीसगढ़ में एक विरोधी सत्ता की लहर से भाजपा प्रभावित नहीं हुई थी।

राज्य के प्रमुख राजनीतिक दल

छत्तीसगढ़ के प्रमुख राजनीतिक दल हैं

  • आईएनसी - भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
  • बीजेपी - भारतीय जनता पार्टी
  • बीएसपी - बहुजन समाजवादी पार्टी
  • अन्य
भारत के चुनाव 2013
मध्य प्रदेश चुनाव 2013राजस्थान चुनाव 2013दिल्ली चुनाव 2013मिजोरम चुनाव 2013
छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2013 एफएक्यू  



राज्य विधान सभा

छत्तीसगढ़ में राजनीतिक दलों के बीच भाजपा का नाम सबसे प्रमुख रहा है। उन्होंने पिछला चुनाव जीता है और अब वे राज्य की सत्ताधारी पार्टी हैं। छत्तीसगढ़ विधान सभा एकसदनी विधायिका है। सीट राज्य की राजधानी, रायपुर से है। छत्तीसगढ़ विधानसभा में विधानसभा चुनावों द्वारा न केवल 90 उम्मीदवार चुने गए, बल्कि इसमें एक आंग्ल भारतीय उम्मीदवार भी है। छत्तीसगढ़ विधानसभा हमेशा 5 साल के लिए निर्वाचित किया जाता है और वर्तमान समय में, राज्य में भाजपा सरकार 2008 से कार्यकारी है।

छत्तीसगढ़ मध्यप्रदेश पुनर्गठन अधिनियम के साथ 2000 में बनाया गया था और उस समय भारत के राष्ट्रपति कोच्चेरील रामन नारायणन द्वारा इसे स्वीकृत दे गई थी। छत्तीसगढ़ विधान सभा इस वर्ष राज्य के निर्माण के साथ बनाई गई थी और यह तब से यह सक्रिय रूप कार्यरत है। मौजूदा विधानसभा में 5 महिला उम्मीदवार हैं और कई अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के उम्मीदवार भी हैं। 2000 की पहली विधानसभा के बाद से तीन छत्तीसगढ़ विधान सभा रही है, जिसमें तीसरा अभी सक्रिय है।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्रियों की सूची
क्रम संख्यामुख्यमंत्रीसेतकपार्टी का नाम
1रमन सिंह12 दिसम्बर 2008वर्तमान बीजेपी
2रमन सिंह7 दिसम्बर 200312 दिसम्बर 2008बीजेपी
3अजीत जोगी1 नवम्बर 1,20007 दिसम्बर 2003आईएनसी


छत्तीसगढ़ के राज्यालों की सूची
क्रम संख्याराज्यपाल के नामसेतक
1आनंदीबेन पटेल15 अगस्त 2018आज तक
2बलराम दास टंडन18 जुलाई 201414 अगस्त 2018
3राम नरेश यादव19 जून 201414 जुलाई 2014
4शेखर दत्त23 जनवरी 201019 जून 2014
5इक्काडु श्रीनिवासन लक्ष्मी नरसिंहन25 जनवरी 200723 जनवरी 2010
6कृष्ण मोहन सेठ2 जनवरी 200325 जनवरी 2007
7दिनेश नंदन सहाय1 नवम्बर 20001 जनवरी 2003


छत्तीसगढ़ के कैबिनेट मंत्री

मंत्रालयमंत्री का नाम
मुख्यमंत्री, योजना और वित्त, खनन और वाणिज्य, सामान्य प्रशासन और जनसंपर्क, वन, खेलरमन सिंह
कृषि, पशुपालन, मछली पालन, जल संसाधनबृजमोहन अग्रवाल
खाद्य और नागरिक आपूर्ति, ग्रामीण उद्योग, सहकारी विभागपुन्नुलाल मोहले
स्वास्थ्य और परिवार कल्याण, चिकित्सा शिक्षा, वाणिज्यिक कर, श्रम विभाग (अतिरिक्त शुल्क) अमर एगर्वल
राजस्व, उच्च और तकनीकी शिक्षाप्रेम प्रकाश पांडे
लोक निर्माण कार्यराजेश मूणत
आदिम अनुसूची जाति और अनुसूची जनजाति विभाग, ओबीसी और अल्पसंख्यक विकास और स्कूल शिक्षा विभागकेदार कश्यप
गृह मंत्री, जेल और लोक स्वास्थ्य इंजीनियरिंग विभागराम सेवक पायक्रा
महिला एवं बाल विकास, सामाजिक कल्याण विभागरमशीला साहू
अभी भी आवंटित अजय चन्द्राकर


छत्तीसगढ़ से राज्यसभा के सदस्य

नामपार्टीअवधिनामपार्टीअवधि
डॉ भूषण लाल जांगड़ेभारतीय जनता पार्टी03/04/2012 से 02/04/2018रणविजय सिंह जूदेवभारतीय जनता पार्टी10/04/2014 से 09/04/2020
श्रीमती मोहसिना किदवईभारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस30/06/2010 से 29/06/2016श्री नंद कुमार साईभारतीय जनता पार्टी30/06/2010 से 29/06/2016
श्री मोतीलाल वोराभारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस10/04/2014 से 09/04/2020  


छत्तीसगढ़ का अंतिम विधानसभा चुनाव 2008 में आयोजित किया गया था। परिणाम निम्नानुसार थे:

चुनाव में भाग लेने वाली पार्टियों में बीजेपी ने 40 सीटें, आईएनसी ने 31, बीएसपी ने 2 और अन्य ने 0 सीटे जीतीं।

छत्तीसगढ़ के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ)

श्रीमती निधि छिब्बर, आईएएस
असम की मुख्य निर्वाचन अधिकारी

Last Updated on November 14, 2018