Track your constituency

Home » Political-Corner
Congress Releases its First List of Candidates for Lok Sabha Polls 2019
Congress Released List of Candidate

The 2014 general elections were a shocker for the grand old party of India. It couldn’t even get the bare minimum number of MPs to get the constitutional post of Leader of Opposition, which is one-tenth of the total strength of the house. The party is trying to turn the tide in its favor this election season. Ending speculation about Sonia Gandhi’s retirement from politics, the Congress on Thursday announced that she would contest from Rae Bareli, while party Chief Rahul Gandhi would seek re-election from Amethi. Both of these constituencies are bastion of the Gandhi family [...]Read more

Will Narendra Modi Win the Lok Sabha Elections 2019 for the BJP
lok sabha election 2019

Prime Minister Narendra Modi’s chemistry with voters is unimaginable. He is far more popular than his party. After sweeping the Uttar Pradesh state election in 2017, Mr Modi was widely acclaimed as unbeatable in 2019. In 2014, Modi had swept the Hindi belt more completely than any party in history. Yet, he faces a tough battle in, what is going to be the biggest election in India till date.  The 2019 Lok Sabha elections will be a referendum on Modi’s work as Prime Minister in the last five years. He launched many welfare schemes, repackaged some from [...]Read more

अनुछेन्द 35-ए संविधान का वो अदृश्य हिस्सा, जो छीन रहा है लाखों कश्मीरियों का मानवाधिकार
Article 35-A is the invisible part of the constitution, which is stripping the human rights of millions of Kashmiris

ऐसा लगता है कि धरती का स्वर्ग कहे जाने वाले जम्मू-कश्मीर का अभी तक भारत में पूरी तरह से विलय ही नहीं हुआ। यह देश के बाकी राज्यों की तरह नहीं है। अनुच्छेद 35-ए ‘इन्स्ट्रूमेंट ऑफ एक्सेशन’ का पालन करता है और इस बात की गारंटी देता है कि जम्मू-कश्मीर की स्वायत्तता बाधित नहीं की जाएगी। फिलहाल जम्मू कश्मीर में लागू अनुछेन्द 35-ए का समाधान तो अभी नजर नहीं आ रहा है लेकिन इस मुद्दे पर राजनीति अपने चरम पर है। दिलचस्प बात तो यह है कि इस मुद्दे पर वो नेता बोलते हैं जिनको ये तक [...]Read more

पीएम मोदी के विकास मॉडल पर कितना आगे बढ़ा भारत?
How much India is ahead on PM Modi's development model?

नरेन्द्र मोदी, भारतीय राजनीति का एक ऐसा नाम, जो इस समय देश के बच्चे-बच्चे की जुबान पर है। 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर के सामने कोई भी पार्टी टिक नहीं पाई। कांग्रेस विरोधी लहर के खिलाफ ‘मोदी लहर’ के विजय रथ पर सवार 63 वर्षीय गुजरात के मुख्यमंत्री ने भाजपा को स्पष्ट बहुमत दिलाने के साथ ही पूरे भारत में अपनी उपस्थिति का अहसास कराया, जो पहले कभी नहीं देखा गया। 1984 के बाद के 30 वर्षों में भाजपा ऐसी पहली पार्टी बनी जिसने अपने दम पर बहुमत हासिल किया है। अब मोदी सरकार का [...]Read more

Can the Mahagathbandhan Defeat the BJP in Upcoming Lok Sabha Elections 2019?
lok sabha election 2019

The Bhartiya Janta Party (BJP) understands the potential threat that the Great Alliance poses in the run-up to the upcoming Lok Sabha election. While, on one hand, the Opposition leaders have tried to stitch together an anti-BJP front, whereas, on the other hand, the BJP launched a scathing attack on the alliance. Prime Minister Narendra Modi, from various platforms, has attacked the alliance terming it Mahamilavat.  There is no denying the fact that Mahagathbandhan is a conglomeration of vulnerable parties who have united against a stronger common enemy, the BJP. But the biggest question remains: can it [...]Read more

क्या यूपी में बसपा से गठबंधन, सपा के लिए साबित होगा घाटे का सौदा?
up alliance seat sharing advantage to mayawati, Loss to Sp

लोकसभा चुनाव 2019 की सियासी लड़ाई दिन प्रतिदिन रोचक होती जा रही है। यूपी में भाजपा को रोकने के लिए सपा-बसपा ने गठबंधन करके चुनाव मैदान में उतरने की तैयारी की। हम इस गठबंधन को एक अवसरवादी गठबंधन भी कह सकते है क्योकि 2019 का महागठबंधन किसी भी प्रकार के लोक कल्यणाकारी कार्य या विकास के लिए नहीं है बल्कि मोदी को रोकने के लिये सियासत का महायोग है। आपको बता दें कि कभी एक दूसरे की साथी रहीं समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने करीब 25 साल बाद एक बार फिर साथ आने का ऐतिहासिक [...]Read more

BJP, AIADMK and PMK Join Hands Allies for the Upcoming Lok Sabha Election 2019
Lok Sabbha Elections 2019

Recently, Bhartiya Janta Party has been working actively to rope in allies for the upcoming Lok Sabha election. BJP President Amit Shah, Shiv Sena Chief Uddhav Thackeray and Maharastra Chief Minister Devendra Fadnavis announced a seat-sharing agreement between both the parties in the state. Just a day later, BJP sealed a deal with All India Anna Dravida Munnetra Kazhagam (AIADMK) and Pattali Makkal Katchi (PMK). Out of 39, PMK will contest on 7 and BJP on 5 Tamil Nadu Lok Sabha election 2019 seats. Additionally, PMK gets one seat to the Rajya Sabha. This leaves 28 seats [...]Read more

तमिलनाडु में एआईडीएमके के साथ गठबंधन करके कितनी मजबूत हुई भाजपा?
How strong became BJP after ally with AIDMK in Tamil Nadu

लोकसभा चुनाव 2019 के लिए भाजपा अपने कुनबे को सहेज कर रखने के अलावा और भी कई नए सहयोगियों को जोड़ने में जुटी हुई है। इसका एक ताजा उदाहरण है तमिलनाडु में भाजपा का एआईडीएमके के साथ गठबंधन। तमिलनाडु दक्षिण भारत का एक अहम राज्य है, 39 लोकसभा सीटों वाला यह राज्य दिल्ली की सियासत में भी अहम भूमिका निभाता है। भाजपा इस बात को अच्छी तरह से जानती है कि दक्षिण भारत में पैर जमाने के लिए उसे वहां की किसी मजबूत पार्टी से गठबंधन करना बहुत ही जरूरी था। तमिलनाडु में 2019 की सियासी लड़ाई [...]Read more

BJP, Shiv Sena Announce Holly Alliance for Lok Sabha Elections 2019
Holy Alliance Between Shiv Sena and BJP before Lok Sabha Election 2019

 Lok Sabha Elections 2019 -  Shiv Sena and the Bhartiya Janta Party have been alliance partners for the last 25 years. Senior Thackeray along with Former Prime Minister Atal Bihari Vajpayee and senior leader Lal Krishna Advani acted as the glue that held the alliance together. The senior leadership of the BJP, at that time, accepted Maharashtra-based party’s big brother status in assembly elections in return for more seats in the Lok Sabha polls. Lately, BJP has been asserting its big brother status in Maharashtra to politically capitalize on the popularity wave of Prime Minister Narendra Modi. That [...]Read more

उरी, पठानकोट और पुलवामा आतंकी हमला, आखिर कब तक सहेगा देश?
Uri, Pathankot and Pulwama, How long will the country bear

पुलवामा आतंकी हमले में 40 से ज्यादा जवानों की शहादत से पूरे देश में आक्रोश का माहौल है। सवा सौ करोड़ देशवासियों के दिल में इस समय सिर्फ एक ही आवाज उठ रही है कि बस अब और नही सरकार इस हमले का मुहतोड़ जवाब दे। पुलवामा में हुए आतंकी हमले की जिम्मेदारी चरमपंथी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने ली है। ये संगठन पाकिस्तान की जमीन से अपनी गतिविधियों को संचालित करता है। ऐसे में केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने पाकिस्तान को कठघरे में खड़ा करते हुए उससे मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा वापस ले लिया है। आत्मघाती [...]Read more

<