Q
Which state goes to assembly elections 2018 next?
Home » Political-Corner
राजस्थान कांग्रेस में मुख्यमंत्री की कुर्सी के लिए जारी है उठापटक
rajasthan vidhansabha chunav

राजस्थान में आगामी विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की जीत की स्थिति में कांग्रेस के भीतर मुख्यमंत्री पद की दावेदारी की दौड़ तेज हो गयी है। यह दौड़ और भी रोचक हो चुकी है क्योंकि अशोक गहलोत, सचिन पायलट और सी.पी. जोशी चुनाव लड़ने का ऐलान कर चुके हैं।कुर्सी की जंग इन तीनों ही नेताओं के बीच होने की सम्भावना है लेकिन वरिष्ठ कांग्रेस नेता सिंघवी ने कहा है कि यदि कांग्रेस राजस्थान की सत्ता में काबिज होती है तो अशोक गहलोत या फिर सचिन पायलट अगले मुख्यमंत्री बनेंगे। चुनाव से पहले कांग्रेस द्वारा मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार [...]Read more

Rajasthan Assembly Elections 2018 – Will Sachin pilot be the CM Face for congress in Rajasthan after results?
Rajasthan Assembly Elections 2018 - Sachin pilot

Rajasthan might come as a big relief for Congress after Punjab. Right now, the atmosphere and the history both are in favour of Congress and so is the vibe in political corners. The bigger question is who will be the face for Chief Minister for Rajasthan. Will it be Ashik Gehlot, CP Joshi, Sachin Pilot? The Congress late Thursday night released its first list of 152 candidates for the December 7 Rajasthan Assembly elections, where former chief minister Ashok Gehlot is contesting from Sardarpura and state party president Sachin Pilot from Tonk seat. Gehlot has already taken [...]Read more

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018: अजीत जोगी ने स्टांप पेपर पर घोषणा पत्र जारी किया
Ajit Jogi

छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्रीअजीत जोगी ने शनिवार को राज्य विधानसभा चुनाव के लिए स्टांप पेपर पर अपनी पार्टी का घोषणा पत्र जारी कर सत्तारुढ़ बीजेपी और कांग्रेस को चुनौती दी है। जोगी ने कहा कि उन्होंने स्टांप पेपर पर जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के 14- सूत्रीय घोषणापत्र को जारी किया है और इसलिए इसमें उल्लिखित वादों को पूरा करने के लिए वे प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने कहा कि, ‘अगर मैं अपने वादे से मुकरता हूं, तो जेल भी भेजा जा सकता हूं।’ जोगी के स्टांप पेपर द्वारा घोषणापत्र के बिन्दु धान का समर्थन मूल्य 2500 रुपये प्रति क्विंटल, [...]Read more

Chhattisgarh Elections 2018: First phase – 70% Voter Turnout Despite Maoist Violence
Chhattisgarh Elections 2018

Chhattisgarh Elections 2018 Polling Overview – Once again voters have shown their confidence in the electoral process in Chhattisgarh state elections. One should understand the significance of 70% turnout in a Maoist affected area. It clearly means that despite the threat from Maoists, voters are making a statement. The turnout was just a slightly lower than the first phase in 2013 when 75.53 per cent of voters turned out. Chief Election Commissioner OP Rawat said the attempt was made to instil a sense of fear among people. “Polling was peaceful. In comparison to earlier elections, this election [...]Read more

Chhattisgarh assembly Elections – 1st phase polling 2018 – BJP vs Congress
Chhattisgarh Assembly Elections 2o18

Voting for 10 out of the 18 constituencies has started. As per the Election commission notification, earlier voting in these 10 constituencies will be conducted from 7 am to 3 pm, while the rest of the constituencies will go to polls from 8 am to 5 pm. It is important to understand that these elections in five states have very strong symbolic relevance before upcoming Lok Sabha elections in 2019. In 2013 Chhattisgarh state elections congress was pretty dominant on these 18 seats and won 12 seats out of 18 and on the other hand, BJP just won [...]Read more

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018: कांग्रेस बनाम भाजपा का चुनावी समर
छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018:

छत्तीसगढ़ की धरती पर चुनावी रण का बिगुल बज चुका है। इस प्रतियोगिता में कई दल आमने सामने हैं लेकिन भाजपा और कांग्रेस इसके प्रमुख प्रतियोगी हैं और साथ ही सबसे बड़े दावेदार भी।यहाँ हुए पिछले तीन चुनावी संघर्षों में अब तक बाजी भाजपा के हाथ ही लगी है। जाहिर है भाजपा अपने वर्चस्व को खोना नहीं चाहेगी, वहीं कांग्रेस सत्ता प्राप्त करने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। यह स्वाभाविक है कि जब चुनाव का समय पास आता है तब पक्ष-विपक्ष के नेता जनता को अपने पाले में लाने के लिए तरह-तरह की बयानबाजी [...]Read more

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 : नक्सलवाद पर लोकतन्त्र का प्रहार
छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018

छत्तीसगढ़ में विधानसभा की जिन 18 सीटों पर पहले चरण में मतदान होना है। उसमें अधिकत्तर सीटें नक्सल प्रभावित हैं। जिसमें बस्तर, धुर, संभाग और दंतेवाड़ा प्रमुख रुप से शामिल है। छत्तीसगढ़ आगामी विधानसभा चुनाव में सबसे बड़ा मुद्दा है नक्सलवाद। आज हम बात कर रहे हैं नक्सल प्रभावित राज्य छत्तीसगढ़ की जहाँ विधानसभा चुनाव दहलीज पर दस्तक दे चुके हैं। जिसके लिए राज्य की जनता पूरी तरह से तैयार है। या ऐसा भी कह सकते हैं कि राज्य के मतदाता मतदान के माध्यम से नक्सलवाद पर लोकतन्त्रिक रुप से प्रहार करने का मन बना चुके हैं [...]Read more

‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’: अखंड भारत के सूत्रधार सरदार बल्लभभाई पटेल और उनका अविस्मरनीय योगदान
statue-of-unity

‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’: अखंड भारत के सूत्रधार सरदार बल्लभभाई पटेल और उनका अविस्मरनीय योगदान [ नरेंद्र मोदी ]: वर्ष 1947 के पहले छह महीने भारत के इतिहास में अत्यंत महत्वपूर्ण रहे थे। साम्राज्यवादी शासन के साथ-साथ भारत का विभाजन भी अपने अंतिम चरण में पहुंच गया था। हालांकि, उस समय यह तस्वीर पूरी तरह से साफ नहीं थी कि क्या देश का एक से अधिक बार विभाजन होगा। कीमतें आसमान पर पहुंच गई थीं, खाद्य पदार्थों की किल्लत आम बात हो गई थी, लेकिन इन बातों से परे सबसे बड़ी चिंता भारत की एकता को लेकर नजर आ [...]Read more

भारतीय राजनीतिक दल और उनकी विचारधाराएं
political-parties-and-their-ideologies-in-india

भारतीय राजनीतिक दल और उनकी विचारधाराएं भारत में राजनीतिक दलों में तेजी से हो रही वृद्धि को स्पष्ट करने वाला एकमात्र कारक विचारधारा में अंतर है। हालांकि उनमें से कुछ दल उदारवादी विचारधारा के समर्थक हैं,तोकुछ पूंजीवाद के विरोधी हैं। हिंदू राष्ट्रवाद द्वारा शपथ ग्रहण करने वाले कुछ राजनीतिक दलों के साथ सामाजिक क्षेत्र में भी वैचारिक मतभेद शामिल हैं और शेष दल प्रगतिशील पश्चिमीकरण के साथ सम्पूर्ण रूप से संतुष्ट प्रतीत होते हैं। यह विचारधाराओं और उनके पेशेवरों की विविधता है जो भारतीय राजनीति को अभी भी एक कठिन और दिलचस्प अध्ययन का मामला बनाती है। [...]Read more

जानिए क्या होते हैं इलेक्टोरल बांड्स
Electoral Bonds All You Need to Know

जानिए क्या होते हैं इलेक्टोरल बांड्स एक इलेक्टोरल बांड से क्या तात्पर्य है? सामान्यतयः एक बांड का अर्थ मूलधन और ब्याज के सन्दर्भ में लगाया जाता है। इलेक्टोरल बांड्स में ऐसा कोई पहलू नहीं है, वे बेयरर चेक की तरह ज्यादा प्रतीत होते हैं। एक इलेक्टोरल बांड एक राजनीतिक पार्टी को वित्तपोषित करने का एक वैध और शुद्ध माध्यम है। सरकार ने नगदी के माध्यम से फंडिंग के चलन पर रोक लगा दी है और अपनी पसंद के राजनीतिक दल की मदद करने एक मात्र रास्ता है इलेक्टोरल बांड्स। कोई भी व्यक्ति इन बांड्स को ऑनलाइन या [...]Read more

Track your constituency